Followers

Wednesday, March 20, 2013

शायरी जैसी लड़की

कितनी ही बार
तूने मुझसे एक अदद
साथी ढूढने की इल्तेज़ा
कि है ,
ऐसी जो तेरी शायरी
मे छुपे एहसासों जैसी हो ,
जो तेरे अनकहे
अल्फाजों को पढ़ सके ,
जो शायरी के
हर शेर की खुशबु है ,
जो उसमे मे बयां
लड़की की तरह
बेंतेहा प्यार करे तुझसे ,
पर क्या तुझे पता है की
ऐसी लड़की कहीं नहीं है
कहीं नहीं ,
क्यूंकि वो तो तेरी धड़कन
मे बसी ,
तेरे कलम से शब्द बन कर
पन्नो पर बिखरी रहती है /

रेवा




16 comments:

  1. सच है कल्पना और वास्ताविकता में फर्क है
    latest postऋण उतार!
    latest postउड़ान

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति,आभार.

    ReplyDelete
  3. Lekin jo panno par bikhartii rehtii hai wo wastav mei kahi to hai ... tabhi to uske khwaabo sei wo kavita ban kar panno par utartii hai ...,,, Bahut sundar rachanaa ..... Badhaayee

    ReplyDelete
  4. .बहुत सुन्दर भावनात्मक प्रस्तुति . आभार हाय रे .!..मोदी का दिमाग ................... .महिला ब्लोगर्स के लिए एक नयी सौगात आज ही जुड़ें WOMAN ABOUT MAN

    ReplyDelete
  5. लाजबाब कविता .....
    शुभकामनायें ....

    ReplyDelete
  6. rewa sundar ehsaas sundar alfajo ke sath

    ReplyDelete
  7. अति सुन्दर कविता,

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  9. aap sabka bahut bahut shukriya

    ReplyDelete
  10. हमारे लिखे वह पन्ने जुड़ जाए तो शायद वो शायरी वन कर उतर आए

    ReplyDelete