Followers

Tuesday, November 22, 2016

शाम का मंज़र





शाम का मंज़र
कितना सुहाना होता न ,
मन मोह लेता है
सारे पंछी अपने
घरोंदों की तरफ
उड़ान भरते हैं ,
सूरज भी थकाहारा
अपने घर लौटने की
तैयारी में रहता है ,
पर मुझे ये शाम
खाली
सुनसान सा
प्रतीत होता है ,
भरी है तो बस
ये आँखें
जिसके कारन सब धुंधला
नज़र आ रहा है  ,
सोचती हूँ
आज
बहने देती हूँ इन्हे ,
ताकि ये साफ़ हो सके ,
और फिर
देख सके
जीवन का
सुहाना मंज़र ………

रेवा



Thursday, November 10, 2016

मेल




आज ऐसे ही
मैं पुराने
मेल चेक कर रही थी
उसमे मेरे एक भाई का
मेल पढ़ा ,
वो भाई जिसे
मैंने कभी देखा नहीं
जिसकी आवाज़
कभी सुनी नहीं ,
जिससे मेरा खून
का रिश्ता भी नहीं ,
बस इस नेट की
दुनिया से रिश्ता
जुड़ गया .......
मेरी कविताओं मे
उसने मेरी उदासी
पढ़ ली थी ,
उसके मेल मे
खुश रहने की
प्यार भरी मनुहार थी
और एक प्यार भरा
पंजाबी गीत.........
जिसके बोल थे
तू खुश रहे तो
मैं अपनी किस्मत भी
तुझ पर न्योछावर कर दूँ ......
जिसे सुन कर
मेरी आंखें भर आयी ,
आज जहाँ खून के रिश्ते भी
अपने मायने खोने लगे हैं
वहां कुछ ऐसे रिश्ते भी होते हैं........
मेरा सलाम ऐसे लोगों को
और उनके प्यार भरे
रिश्ते को !!!!!!!!

रेवा