Followers

Monday, May 16, 2016

कमज़ोर नहीं हूँ




नारी हूँ तो क्या
कमज़ोर नहीं हूँ
माँ बहन बेटी पत्नी
सब हूँ 
पर सशक्त भी हूँ मैं
अपने अहम से
कई बार तोड़ना
चाहते हैं ये पुरुष

पर कभी गुस्से
कभी प्यार से
पार कर ही लेती हूँ
हर युद्ध.....

रिश्ते पीड़ा
तो देते हैं
पर ताक़त भी 

इस लिए 
सहेजती हूँ 
हर रिश्ते को ....... 

नारी हूँ तो क्या
कमज़ोर नहीं हूँ 
रेवा 

14 comments:

  1. नारी शक्ति को बड़ी सुंदरता से चित्रित किया है आपने। नारी शक्ति को कोटि-कोटि नमन।

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 18 मई 2016 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (18-05-2016) को "अबके बरस बरसात न बरसी" (चर्चा अंक-2345) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  4. आज की बुलेटिन विश्व दूरसंचार दिवस और ब्लॉग बुलेटिन में आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है। सादर ... अभिनन्दन।।

    ReplyDelete
  5. किसी को कमजोर समझना उसकी भूल होती है

    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  6. नारी हूँ तो क्या कमजोर नही हूँ। सही कहा, आज की नारी तो सक्षम है हर परिस्थिति का मुकाबला करने के लिये।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  8. बेहद खूबसूरत ,बहुत बढ़िया प्रस्तुति

    ReplyDelete