Followers

Friday, September 30, 2016

परायी बेटियां






लाड़ प्यार से जाई बेटियां
क्यों होती है परायी बेटियां ??


बचपन के खेल खिलौने
मीठी बातों की लड़ियाँ
छोड़ जाती हैं आँगन मे बेटियां
क्यों होती है परायी बेटियां ??

भाईओं की कलाइयों मे राखी
बहनों की बाँहों में प्यार
दादा दादी के गले का हार
होती हैं बेटियां
क्यों होती है परायी बेटियां ??

माँ की आँखों मे पानी
पिता की सुनि ज़िंदगानी
कर जाती हैं बेटियां
क्यों होती है परायी बेटियां ??
त्यौहार की ख़ुशी
सखियों की हंसी
घर की रौनक
सब ले जाती हैं बेटियां
क्यों होती हैं परायी बेटियां ??
खुदा ने बख्शा ही है ऐसा हुनर
तभी तो अपनाया है दो दो घर
इसलिए तो जाती है दूजे घर
दो घरों को संवारती है बेटियां
इसी वजह से हो जाती है
परायी बेटियां !!!!!!!

रेवा

13 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 02 अक्टूबर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  3. बेटियाँ इसलिए परिभाषा से परे है ।

    ReplyDelete
  4. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि- आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (01-10-2016) के चर्चा मंच "कुछ बातें आज के हालात पर" (चर्चा अंक-2483) पर भी होगी!
    महात्मा गान्धी और पं. लालबहादुर शास्त्री की जयन्ती की बधायी।
    साथ ही शारदेय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  5. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि- आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल रविवार (02-10-2016) के चर्चा मंच "कुछ बातें आज के हालात पर" (चर्चा अंक-2483) पर भी होगी!
    महात्मा गान्धी और पं. लालबहादुर शास्त्री की जयन्ती की बधायी।
    साथ ही शारदेय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी नज़्म लिखी है बहुत सुंदर.... आप हमेशा ही भावों का चित्रण जीवंत बना देती हैं......आभार

    ReplyDelete