Followers

Tuesday, October 25, 2016

प्यार की गर्माहट



उफ़्फ़ ये प्यार .........  

गुनगुना सा एहसास
और उस पर
ये पहले पहले
ठण्ड की दस्तक .........  
जो दिल मे
बुनती जाती है
फंदा दर फंदा
प्यार की स्वेटर.........  
जिसे पेहेन लेती हूँ
हर दिन
और भर लेती हूँ
अपने रूह मे
तेरे प्यार की गर्माहट !!!!!!!!


रेवा 

 लिखने को लिख दूँ तुझ पर कवितायेँ हज़ार

Saturday, October 15, 2016

अधूरी कविता




कवितायेँ लिखते लिखते 
कब रसोई में जा कर सब्जी 
बनाने लगती हूँ 
आभास ही नहीं होता ......
और वो ज़ेहन मे पड़ी 

अधूरी कविता
पक जाती है सब्जियों के साथ ....
रात जब सोने जाती हूँ
ख्वाबों में फिर बुनती हूँ कविता
पर सुबह होते तक
कुछ शब्द ही रहते हैं
स्मृति मे  

जो
नाश्ते में परोस देती हूँ सबको  ........
दोपहर होते ही 

हमारी अभिव्यक्ति फिर 
नयी उड़ान भरने लगती है.......
पर कभी अपनी थकान मे
कभी दिल की जलन मे
दब कर 

हर बार रह जाती है कविता !!!!!

Thursday, October 6, 2016

Full stop


You are the
Full stop to all
My searches....
You are the
Voice of my heart....
You are the shoulder
To lean on ....
You are one
With whom
I am me....
You are the
Soul
With whom my
Soul wants to b
In its journey .....



Rewa