Followers

Tuesday, April 13, 2010

आँसू..

कभी महसूस किया है इन आँसुओं को ?

गालो को गिला करते ढुलकते आँसू

आँखों से बहने के बाद लम्बा सफ़र तय  करते आँसू ,

हमें  अपनी मौजूदगी का एहसास दिलाते आँसू ,

कभी ऐसे ही बहते ,बिना किसी बात के

कभी मन के तमाम दुखों  को झेलते झेलते

थके से आँसू ,

कभी बिना रोक टोक के अविरल बहते ये आँसू ,

कभी जोर जोर से विलाप करते ये  आँसू ,

कभी ख़ुशी का इज़हार करते ये आँसू ,

आँसू चाहे जैसे भी हों 
हर पल हमें अपनी दोस्ती का सबूत देते हैं ये आँसू /

कभी महसूस किया है इन आँसुओं को  ?


रेवा







23 comments:

  1. कभी बिना रोक टोक के अविरल बहते ये आंसू....

    कभी जोर जोर से विलाप करते यह आंसू .....

    कभी ख़ुशी का इज़हार करते ये आंसू......

    हमें अपनी दोस्ती का सबूत देते हें यह आंसू........
    Revaji, bahut,bahut sundar!

    ReplyDelete
  2. बाद मुद्दत के
    दिल को सकून आया,
    आंसुओं ने जब
    मेरे दिल के आँगन को
    भिगो दिया !

    ReplyDelete
  3. बहुत ही भावपूर्ण निशब्द कर देने वाली रचना . गहरे भाव.

    ReplyDelete
  4. ग़ज़ब की कविता ... कोई बार सोचता हूँ इतना अच्छा कैसे लिखा जाता है

    ReplyDelete
  5. कभी महसूस किया है इन आँसू ओं को

    गालो को गिला करते ढुलकते आंसू

    आँखों से बहने के बाद लम्बा सफ़र ते करते आंसू ....

    हमें अपनी मौजूदगी का एहसास दिलाते आंसू...

    कभी ऐसे ही बहते ...बिना किसी बात के

    कभी मन के तमाम दुखो को झेलते झेलते

    थके से आंसू ..........
    Bahut khoob!

    ReplyDelete
  6. "कभी महसूस किया है इन आंसू ओं को ........."

    JI, Bahut mehsus kiya hai hai,aansuo ko bhi or unki is abhivayacti ko bh...

    kunwar ji,

    ReplyDelete
  7. जब एहसास कराहते है सीने में

    तो दर्द बहता है बनके आंसू

    आंसू ही तो पहचान है इंसान की

    वरना पत्थर भी कभी बहते है आंसू ?

    ReplyDelete
  8. कभी जोर जोर से विलाप करते यह आंसू .....
    कभी ख़ुशी का इज़हार करते ये आंसू......

    आँसुओ की यही तो खासियत है

    ReplyDelete
  9. yeh aansoon ki kahani dil mein utar gayi...
    bahut hi behtareen rachna....
    sundar...
    mere blog par is baar..
    वो लम्हें जो शायद हमें याद न हों......
    jaroor aayein...

    ReplyDelete
  10. सुन्दर भावपूर्ण रचना । कु्छ वर्तनी की अशुद्धियाँ नजर आयी-

    आँसू ओं = आँसूओं
    गिला = गीला
    ते = तय

    अनुरोध है कि अन्यथा नहीं लेंगे । आभार

    ReplyDelete
  11. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  12. Mann ki bhavnao ka aur aansuon ka nazdiki rishta hai ..dono ek dusre ka saath nibha lete hain . Yahi Aansu kabhi Amrit main badal kar jeevan aur mritue ke bandhan se mukti bhi kar dete hain !

    Congrats ! a good poem.

    ReplyDelete
  13. chandan ji thanx for this correction....yeh translation mai mistake ho gayi thi......very nicee of u

    ReplyDelete
  14. mere blog par is baar..
    नयी दुनिया
    jaroor aayein....

    ReplyDelete
  15. रेवा जी बहुत ही सुंदर कृति है आपकी यह ..... सही कहा है आपने की आंसू ही हमारी अन्दर की भावना है जो आँखों के रस्ते एक लम्भा सफ़र तय करते हुए आते है ... कभी दुःख में तो कभी सुख में भी अपने साथ होते है आंसू ...... आंसू ...........

    ReplyDelete
  16. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  17. हमें अपनी मौजूदगी का एहसास दिलाते आंसू...
    कभी ऐसे ही बहते ...बिना किसी बात के
    कभी मन के तमाम दुखो को झेलते झेलते
    थके से आंसू ..........
    कभी बिना रोक टोक के अविरल बहते ये आंसू....
    कभी जोर जोर से विलाप करते यह आंसू ....
    कभी ख़ुशी का इज़हार करते ये आंसू......
    हमें अपनी दोस्ती का सबूत देते हें यह आंसू........आपकी कविताओं ऐसा सुंदर तथा रोचक रूप देख कर मन अत्यंत प्रभावित हो गया
    सार्थक भाव , हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  18. oh dear...don't waste ur tear....
    ALL is WELL if I am here.....

    ReplyDelete
  19. bahut achhe dost life is love and love is give 95% ansu

    ReplyDelete
  20. abhi tak nahi mahsoos kiya tha...par aapki yeh rachna padh kar sach mein mahsoos kiya.......

    ReplyDelete
  21. आंसुओ को पोछना कुछ और है, आंसुओ को बाँटना कुछ और है, खाइयों पे पुल बनाना और है, पर खाइयों को पाटना कुछ और है !.....जय हो शुभ हो :)

    ReplyDelete