Followers

Tuesday, February 14, 2012

उदास हंसी

थकन सी महसूस 
हो रही है आज ,
कहीं कुछ टूट 
गया है ?
दिल की दीवारें 
चटक गयी है शायद ,
एहसासों के पंख 
चूर चूर हो गए हैं ,
मन ख़ाली हो 
गया है ,
आँखों की नमी 
रही नहीं अब ,
हंसी भी उदास 
हो गयी है ,
जैसे सब शोक
मना रहे हों 
मेरे अरमानो के 
टूट जाने का ............

रेवा 



4 comments:

  1. कोमल भावो की अभिवयक्ति......

    ReplyDelete
  2. क्यूँ उदास सी हैं ये जिंदगी ?????

    ReplyDelete
  3. दिल की गहराईयों से निकलीं....बेहद सुन्दर भावनायें !!
    शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  4. aap sabka bahut bahut shukriya

    ReplyDelete