Followers

Saturday, March 8, 2014

महिला दिवस




सुबह से आज महिला दिवस कि बधाईं मिल रही है ,
चाहे फेसबुक हो watsaap या gmail ,
एहसास मिश्रित हैं !
इसलिए अपनी बात कहने आ गयी ,

महिला दिवस मनाते हैं हम
पर पुरुष दिवस क्यों नहीं होता
जब हर छेत्र मे पुरुष से समानता
करते हैं ,तो फिर इस छेत्र मे असमानता ?
वैसे देखा जाये तो हर दिन हमारा
ही होता है !
बस ये सोच पर निर्भर करता है ,
अगर हम अपने को पुरुषों
से कमजोर समझेंगे तो
हम वैसा ही महसूस करेंगे ,
ये साबित भी हो चूका है की
हम पुरुषों से ज्यादा सक्ष्म  हैं ,
ज्यादतर महिलायों का शोषण
महिलाएं ही करती हैं
ये भी एक कड़वा सच है ,
हम सबको को आज
ये प्रण लेना चाहिये की
हम महिलायें एक दूसरे के
साथ देंगी हमेशा  ,
चाहे फिर रिश्ता कोई भी हो
"सबसे बड़ा रिश्ता तो यही है की
हम एक ही लिंग के हैं"
और यही रिश्ता सर्वोपरी है।


रेवा

10 comments:

  1. sahi baat ....koi bhi mahila sirf apne swrop se hi mukabla karti hai

    ReplyDelete
  2. Aapne dusra pehlu likha...bahut Saarthak hai..!

    ReplyDelete
  3. sahi baat purush saksham hoga nari prerna banegi to hi pariwaar me samaj me badlaw hoga

    ReplyDelete
  4. बहुत सही लिखा है |

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति, आभार।

    ReplyDelete
  6. बहनें हैं तो सोच भी एक जैसी ही होनी थी ना बहना
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  7. बिल्कुल सच कहा है...

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर और सच कहा जी

    ReplyDelete
  9. सुन्दर सार्थक रचना ! महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete