Followers

Saturday, June 28, 2014

दोस्त


सालों तक जिस दोस्त को
ढूंढती रही निग़ाहें
उसका पता यूँ अचानक
चलेगा
ये सोचा न था ,
और पता भी कैसा
यहाँ तक की
मैंने उसकी तस्वीर
भी देखी
पर जाने क्यों
उसकी निगाहों मे
खुद को
तलाशने की कोशिश करने लगी ,
वो तड़प ढूंढने लगी
जिसे मैं महसूस करती थी
आखिर हमारी दोस्ती
थी ही ऐसी ,
पर वहाँ कुछ न पाकर
एक झटका लगा ,
एक टिस सी उठी दिल मे
पर चलो भर्म तो टुटा
क्या समय ,हालात
सच मे बदल देते हैं इंसान को ?

"दर्द इसका नहीं की
 बदल गया ज़माना ,
बस दुआ थी इतनी
मेरे दोस्त
कहीं तुम बदल न जाना "



रेवा


12 comments:

  1. कुछ तो मजबूरियां रहीं होंगी...

    ReplyDelete
  2. कोमल, सुंदर, भावपूर्ण प्रस्तुति ! बहुत बढ़िया !

    ReplyDelete
  3. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन हुनर की कीमत - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  4. वैसे तो वह आपकी दोस्त है तो आपके पास जरूर आयेगी। वरना वह दोस्त नही थी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. shayad sahi kaha apne asha ji...shukriya

      Delete
  5. दोस्त से अपना कोई नहीं, बशर्ते वो बदले नहीं...

    ReplyDelete
  6. कभी कभी किसी रचना के भाव अपने भावों जैसे लगते हैं.... अपनी सी कविता...

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर ढंग से अपने मन के भावों को रचना में ढाल दिया है आपने ...............

    ReplyDelete
  8. मित्रता दिवस की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  9. भावमय करते शब्‍दों का संगम ...

    ReplyDelete