Followers

Wednesday, June 14, 2017

पैंतालीसवां साल

पैंतालीस की होने को आई
पर आज भी
मैं अपने मन का
नही कर पाती हूँ ,
चाहती हूं अलसाई सी
सुबह अख़बार और चाय
के साथ बिताना
पर हर सुबह भाग दौड़ में
बीत जाती है ,
दोपहर होते ही
मन अमृता प्रीतम की
नज़्में पढ़ने को करता है ,
पर कभी काम तो कभी
पारिवारिक जिम्मेदारी
हाथ पकड़ लेती है ,
शाम ढले कॉफी की
चुस्कियों के साथ दोस्तों
का साथ चाहती हूं
पर शामें अक़सर
बजट और बच्चों के
भविष्य की चिंता में
बिता देती हूं ,
बस रात अपनी होती है
पर सपने भी कहाँ
हमारे मन मुताबिक आते हैं ,
पैंतालीस की होने को आई
पर आज भी
मैं अपने मन का
नही कर पाती हूँ ,
पर एक ज़िद
खुद को करने की छूट दी है
कि एक दिन मैं अपने मन की
जरूर पूरी करुँगी !!

रेवा 

12 comments:

  1. बेहतरीन..
    आप सफल हों
    इसी कामना के साथ
    सादर

    ReplyDelete
  2. मन की बात बहुत सुन्दरता से कही है आपे

    ReplyDelete
    Replies
    1. shukriya Meena ji....mere blog par apka swagat hai

      Delete
  3. बहुत सुन्दर कविता है।

    ReplyDelete
  4. वाकई दिल की गहराईयों को छूने वाली एक खूबसूरत.... प्रस्तुति आभार !

    ReplyDelete
  5. सटीक और सार्थक रचना

    ReplyDelete
  6. शुक्रिया onkar जी

    ReplyDelete