Followers

Sunday, April 19, 2009

तुम हो....

जब हवा का झोंका मुझे होले से स्पर्श करता  है 
तो लगता है के तुम हो ,


जब हवा का झोंका मेरे बालों को सहलाता है 
तो लगता है के तुम हो ,


जब हवा का झोंका मेरे आंचल से खेलता है 
तो लगता है के तुम हो ,


जब हवा का झोंका मेरे कानों को छू कर जाता है 
तो लगता है तुमने हौले से कुछ कहा है ,


ये कैसे जज्बात है, ये कैसे  एहसास है 
जो बस तुम्हे ही ढूंढते है ,तुम्हे ही महसूस करते है हर जगह /


बस तुम्हे ही ....................


रेवा 

6 comments:

  1. कल 31/10/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. yashwant ji bahut bahut shukriya apka

    ReplyDelete
  3. कोमल भावों से सजी रचना ...सुन्दर

    ReplyDelete
  4. सुन्दर रचना....
    सादर...

    ReplyDelete
  5. खूबसूरत कोमल अहसास

    ReplyDelete
  6. aap sabka bahut bahut shukriya

    ReplyDelete