Followers

Tuesday, May 12, 2009

इन आँखों ने एक सपना देखा

इन आँखों ने एक सपना देखा
सपने में कोई अपना देखा ,
बर्फीली वादियों में जिसके साथ
हाँथो में डाले हाँथ ,
इस दुनिया की भीड़ भाड़ से बेखबर
प्यार में डुबे इस कदर,
न खुद को खुद की खबर
न दिन रात न कोई पहर,
न हम रहे हम न तुम रहो तुम
न फासले हो दरमियाँ
प्यार में डुबे इस कदर,
एक लम्हा भी गर ऐसा जाये गुजर
मरने से न फिर लगे डर,
इन आँखों ने एक सपना देखा
सपने में कोई अपने देखा

रेवा

No comments:

Post a Comment