Followers

Monday, May 10, 2010

क्या यही मेरी जिन्दगी है

बहुत इंतज़ार के बाद तुम आये
एक विरहन के तपते ह्रदय में
ठंडी हवा का झोंका बनकर .............

यथासंभव मुझे मेरे स्थान से डिगा कर
परम सुख की अनुभूति बनकर ..........

मैं भी ऐसे रमी तुझमे के भूल ही गयी
की एक दिन तू फिर मुझे उसी
स्थान पर छोड़ कर चला जाएगा .........

फिर उसी इंतज़ार ...उसी तड़प...उसी विरह वेदना
में जलने के लिए ,
उसी आंसुओं के समंदर मैं गोता लगाने
के लिए छोड़ जाएगा ...........

क्या यह इंतज़ार कभी ख़त्म न होगा
क्या मैं सदा ही तड़पती रहूंगी
क्या यही मेरी ज़िन्दगी है ???

रेवा

8 comments:

  1. i am sorry kshamaji computer mai kuch prob ki vajah say puri rachna delete ho gayi thi aur isliye apka comment which is too precious bhi delete ho gaya......very sorry

    ReplyDelete
  2. क्या यही मेरी ज़िन्दगी है ???
    काश यह इंतजार खत्म हो
    यही नहीं है जिन्दगी

    ReplyDelete
  3. bahut khoob...sabr rakhiye aapko jo chahiye wo jarur milega...shubhkamnayein..;)

    ReplyDelete
  4. अंतिम पंक्तियाँ दिल को छू गयीं.... बहुत सुंदर कविता....

    ReplyDelete
  5. क्या यही मेरी ज़िन्दगी है ???
    waah kya baat hai...
    bahut hi sundar warnan....
    -----------------------------------
    mere blog mein is baar...
    जाने क्यूँ उदास है मन....
    jaroora aayein
    regards
    http://i555.blogspot.com/

    ReplyDelete
  6. Kamaal hai Rewa ji, aapne aur maine dono ne virah par likha hai!
    Bas aap virah se dukhi hain, aur main use celebrate kar raha hoon!
    Rachna achhi ban padi hai.....
    Kisi ke chale jane ka dard bakhoobi ukera hai

    ReplyDelete