Followers

Friday, November 25, 2011

मुझे दे देना

अपनी हर शाम 
अपनी हर सुबह 
अपना हर लम्हा 
अपना हर पल 
अपनी हर ख़ुशी 
किसी और के नाम 
कर देना ,
पर अपना हर दुःख 
अपने हर आंसू 
मुझे दे देना ,
दुनिया की ज़रूरत 
दुनिया की
और मेरा लालच 
मेरा है

रेवा

14 comments:

  1. पर अपना हर दुःख
    अपने हर आंसू ,
    मुझे दे देना ............

    बहुत ही अच्छा ख्याल।

    सादर

    ReplyDelete
  2. किसी के आंसू ले लेने का पावन जज़्बा...
    सुन्दर!

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर विचार ...

    ReplyDelete
  4. रेवा जी..........
    एक हृदयस्पर्शी रचना !!

    अपने हर आंसू,
    मुझे दे देना....

    ReplyDelete
  5. aap sabka bahut bahut shukriya........

    ReplyDelete
  6. chalo baant lete hai....saari kaaynaat......
    sab kuchh tumhara....aur tum mere......

    ReplyDelete
  7. sansac thanx for nicee lines.....

    ReplyDelete
  8. Bahut Khoob ...Apne man aur duniyadari dono ki baaten alag hain.... sunder likha

    ReplyDelete
  9. Monika ji apka swagat hai mere blog par.....bahut bahut shukriya

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सटीक भाव..बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    शुक्रिया ..इतना उम्दा लिखने के लिए !!

    ReplyDelete
  11. पर अपना हर दुःख
    अपने हर आंसू ,
    मुझे दे देना ........
    शुक्रिया... ..इतना उम्दा लिखने के लिए !!

    ReplyDelete
  12. DIL HAI KI MANTA NAHI......THANX A LOT

    ReplyDelete