Followers

Saturday, February 15, 2014

माँ कि व्यथा


क्या बताऊँ सबको
कि मुझे क्या हुआ है
क्यूँ मैं सूखती जा रही हूँ ,
उस माँ कि व्यथा कैसे दिखाऊँ
जिसका मन जब तब
उस शाम को याद कर
रो पड़ता है ,
जिस शाम उसकी
दस साल कि बच्ची की
किसी वहशी ने
अस्मत लूटने की 
कोशिश कि थी ,
हर बार माँ कि आँखों
के सामने बेटी का वो
रोता हुआ चेहरा
आ जाता है ,
जब उसने कांपते कांपते
सारी  बात बतायी और
कहा था ," माँ सब बंद
कर दो , नहीं तो
वो मुझे मार देगा "
उस दिन शायद वो माँ
एक मौत मर गयी थी ,
हर वक्त उसे यही दुःख
सालता है कि वो
अपनी बच्ची कि रक्षा
न कर सकी ,
समय का पहिया
पीछे घूमता भी तो नहीं
कि वो वापस जा कर
सब ठीक कर दे ,
बस दिल रोता रहता है
और जीवन चक्र
चलता रहता है।

रेवा


16 comments:

  1. बहुत मार्मिकता लिए आपकी ये अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  2. बहुत मार्मिक प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  3. Is aadhunik yug ki sachchai ki marmik prastuti

    ReplyDelete
  4. Is aadhunik yug ki sachchai ki marmik prastuti

    ReplyDelete
  5. बहुत ही मार्मिक अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  6. मार्मिक चित्रण !!

    ReplyDelete
  7. Bahut hi sunder shabdon mein aapne kaha hai vyatha ko...bahut hi saarthak rachna!

    ReplyDelete
  8. आपकी प्रविष्टि् कल रविवार (16-02-2014) को "वही वो हैं वही हम हैं...रविवारीय चर्चा मंच....चर्चा अंक:1525" पर भी रहेगी...!!!
    - धन्यवाद

    ReplyDelete
  9. दिल को हिला देने वाली मार्मिक प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  10. मार्मिक ... उस माँ की व्यथा का अंदाज़ लगाना मुश्किल है ... दिल को हिला जाती है रचना ...

    ReplyDelete
  11. बहुत ही मर्मस्पर्शी और कोमल भाव रचना... माँ के प्रति सुंदर समर्पण भाव..

    ReplyDelete
  12. यह केवल माँ की व्यथा नहीं समाज के हर ज़िम्मेदार नागरिक की व्यथा होनी चाहिए . मार्मिक रचना

    ReplyDelete
  13. कुछ हद तक सही चित्रण एक माँ के दर्द का
    वरना पूरा चित्रण कहाँ संभव है

    ReplyDelete