Followers

Thursday, January 30, 2014

इंतज़ार



इंतज़ार कि घड़ियाँ
गिनते - गिनते ,
प्रीत कि ओढ़नी ओढे
मन दुल्हन सा हो गया है ,
मिलन कि आस लिए
बस दरवाज़े पर
टक - टकी लगाये
पहरा देते रहते हैं
मेरे एहसास ,
अश्रु अब पलकों के
सीपों में बंद
मोती हो गयें हैं ,
जो बस पिया के
गले का हार
बनने को आतुर हैं ,
आह !ये इंतज़ार भी
कभी गुदगुदाता है
कभी रुलाता है,
पर कभी - कभी
जीवन को दुबारा
प्यार से भर देता है।

रेवा

22 comments:

  1. GOOD PRESENTATION- WORTH READING AND KEEPING FOR THE BETTERMENT - RIGHTELY EXPRESSED THE REAL MEANING OF TRUE LOVE, WHICH, NORMALLY, IS MISUNDERSTOOD BY THE PEOPLE. AS MY MASTER SAYS 'LOVE ALL WHOM HE LOVES' AND ALSO 'THERE SHOULD BE NO ROOM OF DEMANDS, EXPECTATIOS IN LOVE -EVEN FOR NOT LOVE FOR LOVE AS LOVE-SERVICES-PUNISHMENTS ARE FOR GIVING- NOT TAKING.
    CONGRAT.
    DR.RAGHUNATH MISHR 'SAHAJ', KOTA-RAJASTHAN FROM CHENNAI-RIGHT NOW.

    ReplyDelete
  2. one of your best rewa ji.... beautiful

    ReplyDelete
  3. http://raghunathmisra.blogspot.in/2014/01/love.html

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शुक्रवार (31-01-2014) को "कैसे नवअंकुर उपजाऊँ..?" (चर्चा मंच-1508) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर भावमयी रचना...

    ReplyDelete
  6. आपकी लिखी रचना शनिवार 01/02/2014 को लिंक की जाएगी............... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    कृपया पधारें ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  7. @raghunath ji.... no one is born saint....there is always an expectation.....why should no expectation.....????
    even A mother expect from Son...whose love is called the Pious Love....
    EVERY LOVER EXPECTS....AT LEAST HE/SHE EXPECTS LOVE...CARE N MOST IMPORTANTLY....TIME...

    ReplyDelete
  8. Wonderful lines Rewa Ji....u whose ur words very intelligently..... :) :)

    ReplyDelete
  9. बेहद शानदार रचना ....बहुत खूब रेवा जी मज़ा आ गया आज इसे पढ़कर...


    शुभकामनाओ के साथ
    संजय भास्कर

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन रचना।

    जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ।


    सादर

    ReplyDelete
  11. वाह .... अनुपम भाव संयोजित किये हैं आपने इस अभिव्‍यक्ति में
    बेहतरीन

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया रचना
    आपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामना!

    ReplyDelete
  13. खूबसूरत अहसास

    ReplyDelete