Followers

Tuesday, May 5, 2015

बेमानी



ज़ुबान पर नाम तो तेरा अब भी आता है
पर जाने क्यूँ ये लब खामोश रहते हैं ,

प्यार तो तुझ पर अब भी आता है
पर जाने क्यूँ ये दिल बेवफाई की चादर ओढ़ लेता है ,

ख्वाबों में तेरा अक्स अब भी नज़र आता है
पर जाने क्यूँ ये नज़रों का धोखा लगता है ,

आदत सी हो गयी है यूँ जज़्बातों को कुचलने की
जाने क्यूँ ये प्यार अब बेमानी सा लगता है।

रेवा

15 comments:

  1. जब प्रेम बदल जाता है तो बेमानी सा लगने लगता है ...

    ReplyDelete
  2. shukriya Digamber ji hamesha aap ka blog par aana padhna aur comment karna accha lagta hai ....margdarshan karte rahein....shukriya

    ReplyDelete
  3. कोमल भावनाओं से युक्त हृदयस्पर्शी प्रस्तुति ! बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  4. सुंदर जज़्बात, बेहतरीन प्रस्तुति :)

    ReplyDelete
  5. प्यार बेईमानी सा लगता है.....लाजवाब प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  6. दिल के गहराई से निकले शब्द बहुत प्रभावी है !
    वही होता है जो निर्णायक चाहता है !

    ReplyDelete
  7. दिल की गहराइयों से लिखे शानदार शब्द हैं आपके रेवा जी

    ReplyDelete
  8. क्या खूबसूरत अंदाज़ है. मन को उभरानेवाली एक दिलकश रचना :))

    ReplyDelete
  9. बहुत शानदार प्रस्तुति थी

    ReplyDelete
  10. Replies
    1. शुक्रिया राजीव जी

      Delete