Followers

Saturday, May 14, 2011

तन्हाई

क्या कुछ मान
लिया था
मैंने तुझे ,
पर अफ़सोस
की तू दोस्त
भी न
बना पाया मुझे ,
अपनी परेशानी
अपने गम
न बाँट
पाया मुझसे ,
पहली मंजिल
पर ही न ले जाने लायक
समझा तुने मुझे ,
ज़िन्दगी की
तमाम मंजिलें
कैसे ते 
कर पाओगे 
साथ मेरे ,
तनहा थी और 
तनहा कर दिया 
तुने मुझे ,
पर खुश हूँ
बहुत मैं ,
क्यूंकि
ऐसी तन्हाई
भी हर किसी
के नसीब मे
नहीं होती .................


रेवा




12 comments:

  1. बहुत खूबसूरती के साथ शब्दों को पिरोया है इन पंक्तिया में आपने

    ReplyDelete
  2. सुन्दर कविता

    ReplyDelete
  3. तनहा थी और
    तनहा कर दिया
    तुने मुझे ,
    पर खुश हूँ
    बहुत मैं ,
    क्यूंकि
    ऐसी तन्हाई
    भी हर किसी
    के नसीब मे
    नहीं होती .................
    Waha kya baat ha... ekdam sateek kaha apne.. kabhi kabhi tanhai me bhi alag hi maja hota hai.....

    ReplyDelete
  4. कल 13/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  6. तमाम मंजिलें
    कैसे तेय
    कर पाओगे
    साथ मेरे ,
    तनहा थी और
    तनहा कर दिया
    तुने मुझे ,
    पर खुश हूँ
    बहुत मैं ,
    क्यूंकि
    ऐसी तन्हाई
    भी हर किसी
    के नसीब मे
    नहीं होती .................
    तन्हाई पर लिखी बहुत सुंदर और अनोखी रचना बहुत बहुत बधाई आपको /


    please visit my blog
    www.prernaargal.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. बहुत खुबसूरत अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  8. सुन्दर भावमयी कविता...

    ReplyDelete
  9. aap sabka bahut bahut shukriya

    ReplyDelete