Followers

Sunday, July 15, 2012

हमसफ़र


इतने सालों मे 
तुने कुछ कहा नहीं मुझसे 
पर मैं वो हमेशा  सुनती  रही 
जो सुनना चाहती थी ,
हर जख्म मे मरहम 
खुद ही लगाती रही ,
बिना खवाब दिखाए 
रोज़ एक नया ख्वाब बुनती रही ,
अश्क बहाती रही 
और खुद ही पोछती रही ,
हर नए दिन के साथ 
नयी उम्मीद जगाती रही ,
साल बीतते गए 
जख्म नासूर बन गए ,
अश्क सुख गए  
उम्मीद टूट गयी 
दिल जल कर राख़  हो गया ,
हमसफ़र तो हम बन गए 
पर हम अकेले सफ़र करते रहे /


रेवा 

14 comments:

  1. हमसफ़र तो हम बन गए
    पर हम अकेले सफ़र करते रहे ....
    सोच नहीं मिलते तो शरीर साथ हो कर भी मन अकेला ही रह जाता है .... !!

    ReplyDelete
  2. हृदयस्‍पर्शी पीड़ा की अभिव्‍यक्ति।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सहज शब्दों में कितनी गहरी बात कह दी आपने..... खुबसूरत अभिवयक्ति....

    ReplyDelete
  4. Jab aisee nirasha samne aatee hai to dil toot hee jata hai...

    ReplyDelete
  5. dont know rewa ji...in which context u wrote this....but....no expectaion..no pain.....

    ReplyDelete
  6. aap sabka bahut bahut shukriya...

    ReplyDelete
  7. sansac...i would say expectation is human nature..

    ReplyDelete
  8. प्रेम की सजा यही तो है ... इकतरफा ...

    ReplyDelete
  9. दिल में दबी टीस को बयाँ करती सुन्दर शब्द रचना !!

    ReplyDelete
  10. प्रेम एक दर्द ही तो हैं ...

    ReplyDelete
  11. हमसफ़र तो मिल जाते हैं लेकिन अपनी-अपनी राह पर अकेले चलते हुए... भावपूर्ण रचना, बधाई.

    ReplyDelete