Followers

Friday, October 5, 2012

रचनाकार की मनोदशा

जब शब्द न मिले 
एहसास कहीं खो जाये 
हर चीज़ धुँधली हो जाये 
हर ओर निराशा नज़र आये ,
दिल कुछ और बोले 
दिमाग कुछ और राह दिखाए ,
तो रचनाकार रचना कैसे करे ?
और अगर रचना न करे 
तो जीये कैसे ? 
रचनाकार की तो ज़िन्दगी ही होती है न 
उसकी रचना ..........

रेवा 


14 comments:

  1. बहुत ही अच्छा लिखा आपने .बहुत ही भावनामई रचना शब्दों की जीवंत भावनाएं... सुन्दर चित्रांकन

    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/

    ReplyDelete
  2. हां रचनाकार की ज़िंदगी रचना तो होती है

    ReplyDelete
  3. एक रचनाकार की मनोदशा का बहुत सुन्दर चित्रण किया है आपने !!

    ReplyDelete
  4. मन की भावनाओ को उकेती रचना

    ReplyDelete
  5. रचनाकार के लिए शब्द ही जीवन है

    ReplyDelete
  6. बहुत सही कहा आपने ..रचना कार की जिन्दगी ही उसकी रचना ही होती है .....बहुत सुन्दर, हर रचनाकार के मन की बात कह दी आपने

    ReplyDelete
  7. रचनाकार अपनी राह निकाल ही लेता है...कोई बंधन उसे बाँध नहीं सकता...
    देखो न....तुमने भी तो रच ही डाली सुन्दर कविता,उलझन में भी...

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  8. रचनाकार की जिंदगी ही उसका जीवन है बिलकुल सच कहा आपने *********

    ReplyDelete
  9. kya keh diya hai.....rachna kar ki rachna ko kis tarah racha aapne............

    ReplyDelete
  10. aap sabka bahut bahut shukriya

    ReplyDelete
  11. तो रचनाकार रचना कैसे करे ?
    जबाब मिल गया या सवाल अब भी बाकी है ?

    ReplyDelete