Followers

Tuesday, January 22, 2013

पूंजी

आँखों से आंसु बरबस ही गिरने लगते हैं
किसकी तलाश है , क्या अधूरापन है ?
क्यों इतना तन्हा महसूस होता है
तमाम रिश्तों के बावजूद ,
पर क्या सिर्फ रिश्ते अधूरापन भर सकते हैं  ?
अगर प्यार न हो तो ,
हम ज़िन्दगी जी रहे हैं
न की एक एक दिन काट रहे हैं ,
पर अगर सारी कोशिशों के बावजूद
भी ये अधूरापन न जाये तो ?
रिश्ते को पूरा प्यार ,
पूरा सम्मान दे कर भी
बस तन्हाई और अकेलापन
ही मिले तो ,
आंसुओं का क्या दोष
फिर तो यही हमारी किस्मत
बन जाती है न ,
पर नहीं अब और नहीं
नहीं रोउंगी ,नहीं तरसुंगी
बल्कि खुद को प्यार करुँगी
और यही पूंजी
अपनी बेटी को भी दूंगी /



रेवा 

8 comments:

  1. सुन्दर भाव अभिवयक्ति

    ReplyDelete
  2. पर नहीं अब और नहीं
    नहीं रोउंगी ,नहीं तरसुंगी
    बल्कि खुद को प्यार करुँगी
    और यही पूंजी
    अपनी बेटी को भी दूंगी /
    je baat <3
    अनमोल अनुभूति की अद्धभुत अभिव्यक्ति !!

    ReplyDelete
  3. बिलकुल सही खुद और खुद के अपनों से प्यार ,इससे बढ़ कर और कोई पूंजी हो भी नहीं सकती।


    सादर

    ReplyDelete
  4. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (23-01-13) के चर्चा मंच पर भी है | अवश्य पधारें |
    सूचनार्थ |

    ReplyDelete
  5. सुन्दर प्रस्तुति!
    वरिष्ठ गणतन्त्रदिवस की अग्रिम शुभकामनाएँ और नेता जी सुभाष को नमन!

    ReplyDelete
  6. रेवा जी.....
    हर शब्द में आपने भावों की बहुत गहरी अभिव्यक्ति देने का सफल प्रयास किया है !!

    ReplyDelete