Followers

Tuesday, January 29, 2013

तन की सुन्दरता या मन की

हँसी आती है मुझे
ये देख कर की लोगों के
बोलने मे
और सोच मे
कितना फरक होता है ,
बोलते कुछ हैं
मानते कुछ हैं ,
हमेशा ही ये बोला जाता है की
मन सुन्दर होना चाहिए ,
तन की सुन्दरता
कोई मायने नहीं रखती ,
पर सच तो ये है की
मन की सुन्दरता से
कम ही सरोकार होता है ,
जो दीखता है वो
तन की सुन्दरता होती है ,
वोही सबसे पहली चीज़ है
जो दिखती है ,
और उसी से लोग
इम्प्रेस हो जाते है ,
और कहा भी जाता है न की
"फर्स्ट इम्प्रैशन इस द लास्ट इम्प्रैशन "
फिर मन देखने की कौन कोशिश करता है ?
यही है
आज की दुनिया का कड़वा सच /

रेवा


10 comments:

  1. True& cruel Reality of Modern Time. well said.

    ReplyDelete
  2. हँसी आती है मुझे
    ये देख कर की लोगों के
    बोलने मे
    और सोच मे
    कितना फरक होता है ,
    बोलते कुछ हैं
    मानते कुछ हैं ,
    यही तो मैं सोच रही थी !!

    ReplyDelete
  3. सही कहा आपने


    सादर

    ReplyDelete
  4. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (30-01-13) के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    ReplyDelete
  5. आपकी बात सही है...
    फर्स्ट इम्प्रेसन के चक्कर में मन देखना भूल जाते है लोग...

    ReplyDelete
  6. रेवा जी,
    बहुत खूबसूरती से गहरे भावों को उतारा है आपने !!

    ReplyDelete
  7. aap sabka bahut bahut shukriya...

    ReplyDelete