Followers

Thursday, October 24, 2013

तन्हा अकेली




नहीं रहना मुझे
तन्हा अकेली
बिना तेरी
मौजूदगी के ,
मानती हूँ
सिर्फ जिस्मानी मौजूदगी
मायने नहीं रखती
हम तो रूह से जुड़े हैं
पर फिर भी
नहीं रहना मुझे
तन्हा अकेली ,
सिर्फ तेरी यादों
के सहारे
सिर्फ तेरी बातों
के भरोसे ,
मानती हूँ
कुछ महीनों की
ही बात है ,
पर फिर भी
नहीं रहना मुझे
तन्हा अकेली ,
माना आंसुओं
को जगह नहीं देनी
आँखों मे
ये तेरी इल्तेज़ा थी
पर ये बरबस
तुझे याद करके
बहने लगे तो क्या करूँ ?
कैसे बहलाऊ ?
नहीं रहना मुझे
तन्हा अकेली /

"बिन तेरे सुना है संसार
  तू आजा ले के बहार "

रेवा


16 comments:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (25-10-2013) को " ऐसे ही रहना तुम (चर्चा -1409)" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Rajendra ji apka bahut bahut shukriya. ...mera net kam nahi kar raha isliye link visit nahi kar paa rahi

      Delete
  2. प्यार का सुन्दर इजहार |
    नई पोस्ट मैं

    ReplyDelete
  3. BEHAD SUNDAR! Diwali mubarak ho!

    ReplyDelete
  4. “अजेय-असीम{Unlimited Potential}”
    सुन्दरतम प्रेमाभिव्यक्ति |

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। ।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आप की इस प्रविष्टि की चर्चा शनिवार 26/10/2013 को बच्चों को अपना हक़ छोड़ना सिखाना चाहिए..( हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल : 035 )
    - पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. Upasna ji shukriya....net ki kharabi kay karan link visit karne mey asamarth hu....

      Delete
  7. प्रेम है तो फिर तन्हाई क्यों रहे ...

    ReplyDelete
  8. हर नारी की एक सांचे में तराशी कहानी
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  9. दिल को छू लेनेवाली रचना..

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर रचना......................
    प्यारा लिखा रेवा....
    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete