Followers

Saturday, October 5, 2013

स्वार्थी




बहुत मुश्किल है
इस विरह बेला से
अलबेला रहना ,
लाख कोशिशों
के बावजूद ,
आंसू बन ही गयें हैं
दिल की जुबान ,
हर प्यार भरे गीत पर
हर याद पर
हर बात पर
बरबस गलों को
गिला कर जातें हैं ,
आंसुओं पर
रोक लगाना मुश्किल
होता है न ,
और मेरे लिए
और भी मुश्किल ,
जानते हो न
तुम्हारे जाने से
पहले वाली रात
तुम्हारे कंधे पर
सर रख कर
सिसक उठी थी मैं ,
तुम कुछ न बोल पाए
बस चुप चाप
मेरे बालों को
सहलाते रहे ,
जानती हूँ आसान
तुम्हारे लिए भी नहीं ,
पर मुझे आज
अपना दर्द
ज्यादा महसूस हो रहा है
शायद स्वार्थी हो गयी हूँ मैं
पर तेरे प्यार के लिए !!

रेवा


12 comments:

  1. नवरात्रि की शुभकामनायें आदरणीया-
    सुन्दर प्रस्तुति पर बधाई

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर प्रस्तुति.!
    नवरात्रि की बहुत बहुत शुभकामनायें-
    RECENT POST : पाँच दोहे,

    ReplyDelete
  3. आदरणीया ,सादर प्रणाम |
    बहुत खूबसूरत |
    प्रेम ....की निरंतर ,नए नए आयामों से .........आराधना |


    ReplyDelete
  4. खूबसूरत अहसास..

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर रचना...
    मन को छूने वाले एहसास...
    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  6. बहुत ही भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  7. खूबसूरत प्यार का अहसास

    ReplyDelete
  8. नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  9. भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने.....

    ReplyDelete