Followers

Thursday, April 3, 2014

पहचान

देखा इन दिनों चेहरों पे
नक़ाब कई ,
अपने ,पराये, दोस्त ,दुश्मन
इनमे  थे सभी ,
न मांगी थी मैंने
दौलत  और शौहरत कभी ,
बस चाह थी थोड़ी सी
मदद प्यार और सहारे कि
पर वो भी न दे सके
ये सभी ,
दुःख हुआ
बहाये आँसूं भी ,
पर अच्छा है
इस मुश्किल घड़ी ने पहचान करा दी सभी की ./


रेवा

17 comments:

  1. Vaaah vaaah kya baat hai :) - Rashi

    ReplyDelete
  2. बहुत सही बात कही है आपने। वक़्त पे सब पहचान में आते है।

    ReplyDelete
  3. आपकी यह पोस्ट आज के (०३ अप्रैल, २०१४) ब्लॉग बुलेटिन - जीवन में संगीत का महत्त्व पर प्रस्तुत की जा रही है | बधाई

    ReplyDelete
  4. क्या बात है, शानदार जज़्बात
    ठीक वही जो मेरे मन में घुमड़ रहे हैं कई दिनों से। आपका बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  5. चलो एक पड़ाव तुम ये भी पार की
    नहीं किसी का एहसान ली
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  6. very true Rewa......har mod per ye ahsaas hota hai..

    ReplyDelete
  7. आड़े वक्त पर ही दोस्तों की पहचान होती है ! भ्रम जितनी जल्दी टूट जायें अच्छा ही होता है ! सार्थक प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  8. आपकी लिखी रचना शनिवार 05 अप्रेल 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  9. सत्य ही ! मुश्किल वक्त अपने पराये , अच्छे बुरे की पहचान कर देता है !

    ReplyDelete
  10. सच कहा आपने

    ReplyDelete
  11. शानदार कविता रची है आपने।

    ReplyDelete
  12. सच कहा है ... समय पहचान करा देता है अपने पराये कि ...

    ReplyDelete