Followers

Tuesday, July 22, 2014

मुनिया



छोटी सी मुनिया
दिल मे डॉक्टर बनने
का अरमान लिए ,
बार-बार स्कूल के
दरवाजे जा खड़ी होती ,
डब-डबाई आँखों से
बस बच्चों को
पढ़ते हुए देखती
और लौट आती
पर पढ़ नहीं पाती ,
उस छोटी सी बच्ची
के कन्धों पर
घर सम्भालने की
जिम्मेदारी जो थी ,
भाई का पढ़ना
ज्यादा जरूरी था
बड़े होकर कमाना
तो उसे ही था ,
मुनिया तो लड़की है
घर के काम-काज़
सीखेगी तभी तो
ब्याह होगा उसका ,
पढ़ कर क्या करेगी ?
चूल्हा चौका करना
और बच्चे पलना
धर्म है उसका ,
न जाने कब पूरा होगा
मुनिया जैसी
गांव मे रेह रही
तमाम बच्चियों का सपना  ??

रेवा


10 comments:

  1. आपकी लिखी रचना बुधवार 23 जुलाई 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (23-07-2014) को "सहने लायक ही दूरी दे" {चर्चामंच - 1683} पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. एक सच जिसे बिल्‍कुल सटीक शब्‍द दिये हैं आपने ... बहुत ही बढिया प्रस्‍तुति... आभार

    ReplyDelete
  4. पता नहीं हमारे देश में ऐसी कितनी ही मुनिया के सपने साकार होने से
    पहले ही टूट जाते होंगे, बहुत सुन्दर सटीक रचना आजके सन्दर्भ में !

    ReplyDelete