Followers

Monday, September 29, 2014

बेकाबू आँसू



धो लिये आज आंसुओं से
अपने सारे गम........
भर ली अपनी झोली
फिर इन नमकीन
जल की धाराओं से
चाहती नहीं थी
इन्हें न्योता देना
पर क्या करूँ
इन्सान हूँ
देवताओं जैसी फितरत
कहाँ से लाऊँ..........
जब सहनशक्ति
अपनी हदें पार
कर लेती है
तो ये आँसू बेकाबू
हो जातें हैं
जिनकी किस्मत मे
होता है बह कर
बस सूख जाना ...........


रेवा


19 comments:

  1. इतने बेकाबू की ख़ुशी हो या गम दोनों में चले आते हैं
    वो भी आंसू है
    शायद तेजबों वाले
    जो गालों पर
    अमिट अक्स छोड़ जाते हैं
    मानो
    कोई नदी टूट कर बहती है
    बस्ती को चिरती हुई
    सूखने के बाद भी
    निशां पड़े रहते हैं
    उस बेखोफ हस्ती के.

    भावपूर्ण कविता :)

    ReplyDelete
  2. ये आँसू होते ही ऐसे हैं ! आँसुओं की नमी से भीगी-भीगी सी खूबसूरत मंत्री !

    ReplyDelete
  3. आपकी लिखी रचना बुधवार 01 अक्टूबर 2014 को लिंक की जाएगी........... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवार के - चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  5. सुंदर रचना , धन्यवाद !
    आपकी इस रचना का लिंक दिनांकः 1 . 10 . 2014 दिन बुद्धवार को I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर दिया गया है , कृपया पधारें धन्यवाद !
    Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  6. भावपूर्ण मन को छूती कविता --
    सादर -

    ReplyDelete
  7. areeeeee...itna emotional hone ki jarurat nahi hai....aansuon se Dil Halka...aur Aankhen Saaf ho jaati hai.... :) :) :)
    Bolo.....Jai Mata Di....

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    अष्टमी-नवमी और गाऩ्धी-लालबहादुर जयन्ती की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    --
    दिनांक 18-19 अक्टूबर को खटीमा (उत्तराखण्ड) में बाल साहित्य संस्थान द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय बाल साहित्य सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है।
    जिसमें एक सत्र बाल साहित्य लिखने वाले ब्लॉगर्स का रखा गया है।
    हिन्दी में बाल साहित्य का सृजन करने वाले इसमें प्रतिभाग करने के लिए 10 ब्लॉगर्स को आमन्त्रित करने की जिम्मेदारी मुझे सौंपी गयी है।
    कृपया मेरे ई-मेल
    roopchandrashastri@gmail.com
    पर अपने आने की स्वीकृति से अनुग्रहीत करने की कृपा करें।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
    सम्पर्क- 07417619828, 9997996437
    कृपया सहायता करें।
    बाल साहित्य के ब्लॉगरों के नाम-पते मुझे बताने में।

    ReplyDelete
  9. भावमय करते शब्‍द एवं प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  10. Bahut bhaawpurn rachna .... Badhaayi ..!!

    ReplyDelete
  11. Bahut Khub Likha hai Appne....
    swayheart.blogspot.in

    ReplyDelete