Followers

Wednesday, February 4, 2015

सिंदूरी शाम



सिंदूरी शाम
धुंध मे छिपा चाँद ,
मधम संगीत
हौले हौले
चलती ये पुरवाई ,
ऐसे मौसम में
उफ्फ तेरी रुस्वाई,
पर मेरा प्यार
जो जोड़ देगा
दिल के हर तार ……

रेवा



20 comments:

  1. वाह ! बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  2. वाह क्या खूब लिखा है ... बहुत ही सुंदर प्रस्तुती ... धन्यवाद..
    मेरे ब्लॉग पर आप सभी लोगो का हार्दिक स्वागत है.

    ReplyDelete
  3. सुन्दर शब्द रचना...
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete
  4. थोड़े शब्दों में बहुत ही बड़ी कह देती आप रेवा दी ... बहुत अच्छी लगी यह नज़्म

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  6. प्रेम के एहसास को छूते हुए शब्द ...

    ReplyDelete
  7. कल 12/फरवरी /2015 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete