Followers

Monday, July 13, 2015

अनकही जुबां !!



बेवफाई ने तेरी
कर दिया बेजुबां ,
हर तन्हा लम्हे से
करती हूँ मैं बस
एक ही सवाल ,
क्या मैं प्यार के
क़ाबिल नहीं ?
या किस्मत ही है
बईमा ,
या पल पल की तड़प
नाम है मेरे ,
काश ! तुम समझ पाते
मेरे नम आँखों की जुबां ,
पढ़ पाते
मेरी दर्द भरी मुस्कान ,
पर अब भी मेरे पास
जीने की है एक वजह
मेरे दिल मे बसे
तेरे प्यार की वो
अनकही जुबां !!

रेवा



15 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, फ़िल्मी गीत और बीमारियां - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. ये प्रेम ही है जो संजीवनी है ...

    ReplyDelete
  3. वाह..
    काश तुम समझ पाते
    मेरे नाम आखों की जुबां ...वाह

    ReplyDelete
  4. वाह वाह उम्दा भाव

    ReplyDelete
  5. जीने का बहाना मौत से बडी सजा
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete
  6. प्रेम की खासियत है की वो टूट सकता है मिट नहीं सकता ।
    ---खूबसूरत रचना ।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  8. प्यार से जुड़े दर्द भरे अहसास को बेहद उम्दा तरीके से दर्शाया

    ReplyDelete