Followers

Tuesday, November 22, 2016

शाम का मंज़र





शाम का मंज़र
कितना सुहाना होता न ,
मन मोह लेता है
सारे पंछी अपने
घरोंदों की तरफ
उड़ान भरते हैं ,
सूरज भी थकाहारा
अपने घर लौटने की
तैयारी में रहता है ,
पर मुझे ये शाम
खाली
सुनसान सा
प्रतीत होता है ,
भरी है तो बस
ये आँखें
जिसके कारन सब धुंधला
नज़र आ रहा है  ,
सोचती हूँ
आज
बहने देती हूँ इन्हे ,
ताकि ये साफ़ हो सके ,
और फिर
देख सके
जीवन का
सुहाना मंज़र ………

रेवा



16 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 23 नवम्बर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. सुहाने सफ़र के लिए इन आंसुओं का भी योगदान होता ही है

    ReplyDelete
  3. सुन्दर शब्द रचना

    ReplyDelete
  4. कम शब्दों मिएँ गज़ब की बात कहने की अदा है आपकी ... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  5. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 24.11.2016 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2536 पर दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete