Followers

Thursday, August 9, 2012

मुझे सहने दो !

तुम कहते हो 
इतना एहसास है 
तुम्हारे अन्दर 
मेरे लिए 
तो जताती   
क्यों नहीं ,
प्यार इतना भरा है 
दिल मे तो 
कभी बताती 
क्यों नहीं ,
आंसू बहाती 
हो चुप चाप 
मेरे लिए 
तो मुझे भिगाती 
क्यों नहीं ,
क्यों सब मन 
मे  दबा 
कर रखती हो ?
क्या बताऊ    
तुम्हे की ,
ये एहसासों 
का तूफान 
तुम्हे उडा 
ले जायेगा ,
प्यार तुम्हे 
पागल कर देगा ,
आंसू तुम्हे 
डूबो देंगे ,
ये मेरे 
अन्दर रहेने दो, 
मुझे अकेले ही 
चलने दो ,
शायद अगले 
जनम मे 
तुम्हे पाऊ  ,
इस जनम 
मुझे सहने दो !

रेवा 






27 comments:

  1. Kya kahun? Asamanjas me hun....nihayat sundar rachana hai,itna hee kah paa rahee hun.

    ReplyDelete
  2. शायद अगले
    जन्म में
    तुम्हें पाऊं ,
    इस जन्म में
    मुझे सहने दो .... !
    दिल की इच्छा ,
    दिल को छू गई .... !!

    ReplyDelete
  3. Kya kehen rewa ji..shabd nahi hai mere paas....
    ek ek shabd mn ko chho gya .....

    ReplyDelete
  4. bahut khoob didi harday ke bhitar ek ajeeb sa ahsas karne wali poem

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  6. रेवा जी..
    मुझे कहने दो !
    मन को छू गये आपके भाव ।
    इससे ज्यादा और क्या कहूं..
    बहुत कुछ चन्‍द शब्‍दों में व्‍यक्‍त किया,आभार ।।

    ReplyDelete
  7. क्या बात हैं दिल के एहसास ...शब्दों में उतर आए ...बहुत खूब

    ReplyDelete
  8. आज 14/08/2012 को आपकी यह पोस्ट (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    ReplyDelete
  9. bahut behtareen...
    "is janam mujhe sahne do:)

    ReplyDelete
  10. aap sabka bahut bahut shukriya

    ReplyDelete
  11. रेवा जी, बहुत ही सुन्दर और भावमय लिखा है आपने.
    सहने का दर्द मार्मिकता से दर्शाती प्रस्तुति.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईएगा.

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर रेवा जी...
    मन को छूते भाव..
    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. Anu di shukriya....aap meri didi ki tarah dikhte ho bilkul...so aaj say apko mera margdarshan karna hoga

      Delete
  13. virah vedana ko jeevant karti bahut hi shashkt rachana likhi hai apne ......bilkul mn ko chhoo gayee ...sadar badhai sweekare

    ReplyDelete
  14. पहली बार आपके ब्लॉग पर आई हूँ ............अच्छी लगी रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. sandhya ji mere blog par apka swagat hai.....shukriya....rachna may kuch kami ho tho jaroor batayiyega

      Delete
  15. मेरे ब्लॉग पर आपके आने,सुन्दर टिपण्णी करने और मेरे ब्लॉग का
    फालोअर बनने के लिए हार्दिक आभार,रेवा जी.

    मुझे आपके ब्लॉग का फालोअर बनते हुए
    बहुत ही खुशी हो रही है.

    ReplyDelete