Followers

Wednesday, August 29, 2012

मेरे कान्हा

कान्हा तेरे चरणों मे अर्पण है
ये अश्रु के फूल 
क्षमा करना मेरी सब भूल ,
पापिनी  हूँ दुखियारिणी हूँ 
पर हूँ तो  तेरी हि रचना ,
करती हूँ विनती आँखों मे भर नीर 
हरना मेरे ह्रदय की पीर 
चाहे कैसी भी हो तकदीर ,
जब भी टूटी मेरी आस 
तुने ही भरा नया विश्वास 
नव जीवन और उल्लास ,
आज फिर हूँ बहुत निराश 
डर और आशंका से भरी 
है हर  साँस ,
तेरे सिवा कोई नज़र आता नहीं 
दिल का बोझ अब सहा जाता नहीं ,
आंखें मूंदे झोली फैलाइए 
खड़ी हूँ आस लगाये ,
अब देर न कर 
तेरी बेटी तुझे बुलाये ,
या तो तू बुला ले अपने पास 
नहीं तो बना ले अपने                                     
चरणों का दास  !!

रेवा 

पहली बार भगवान की भक्ति पर लिखा है ,मन से आवाज़ आई उसे शब्द दिया है बस 
कुछ भूल हो थो अवश्य बताएं //



17 comments:

  1. बेहद खूबसूरत लिखा हैं

    ReplyDelete
  2. bhakti ki antrangata ka sahaj prvaha ....lajbab rachana ke liye sadar abhaar reva ji

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर दीदी
    हर कम पहली बार होता हैं वो आप करो चाहे कोई और
    आपको बहुत बहुत बधाई इस पोस्ट के लिए

    ReplyDelete
  4. behtreen prastuti, jai Sree Krishna

    ReplyDelete
  5. जीवन की भाषा जब जड़ें पकडती हैं तो आध्यात्म मुखरित होता है- बहुत ही बढ़िया

    ReplyDelete
  6. जब भी टूटी मेरी आस
    तुने ही भरा नया विश्वाश
    नव जीवन और उल्लास ,
    आज फिर हूँ बहुत निराश
    डर और आशंका से भरी है हर साँस ,
    तेरे सिवा कोई नज़र आता नहीं
    दिल का बोझ अब सहा जाता नहीं
    बस थोड़ा सा और धैर्य ! विश्वास की डोर कमजोर ना हो !

    ReplyDelete
  7. भगवान के प्रति अर्चना ही हो सकती है ... और जो भी उसके प्रति है उसमें भूल तो वो होने नहीं देता ... अच्छी रचना है ...

    ReplyDelete
  8. ishwar prem me jo bhi likha jata hai usme bhul ho hi nahi sakti , ye to dil ke bhav hai jo shabdon ke madhyam se swarup lete hai

    ReplyDelete
  9. भक्ति में भूल कैसी रेवा.....
    सहज अभिव्यक्ति है....बहुत सुन्दर...
    बस ये निराशा के भाव टिकने न देना.....

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  10. aap sabka bahut bahut shukriya...

    ReplyDelete
  11. बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको
    और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/

    ReplyDelete
  12. madanji bahut bahut shukriya.....jaroor

    ReplyDelete