Followers

Tuesday, August 20, 2013

रिश्ते




उलझन भरी ज़िन्दगी मे
सुकून का एहसास
दिलाते हैं रिश्ते ,
गम की धुप को
छाँव मे बदलते हैं रिश्ते ,
हालातों की मार को भी
प्यार भरी थपकी
देते हैं रिश्ते ,
हो अगर प्यार भरा
तो फिर जीना आसां
करते हैं रिश्ते ,
पर सब रिश्तों से बड़ा है
खुद से खुद का रिश्ता
अगर ये बन जाये तो
"प्रयासों के गीत से
जीवन को संगीत बना दे ये रिश्ते "

रेवा


22 comments:

  1. खुद से जुड़ना ही कई रिश्तों के नींव है!

    सुन्दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  2. सुन्दर अभिव्यक्ति!
    आपको रक्षा बंधन की बहुत बहुत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  3. रिश्ते न हों तो जेवण नीरस हो जाता है ...
    इनकी अहमियत को समझना ओर निभाना जरूरी है ...

    ReplyDelete
  4. बहुत ही बढिया कविता ! शब्दों और भावों का लाजवाब संयोजन !!
    रक्षाबंधन की ढेर सारी शुभकामनाएं !!!!

    ReplyDelete
  5. अनुपम भाव संयोजन ....

    ReplyDelete

  6. बहुत ही भावपूर्ण रक्षा बंधन की बधाई ओर शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुंदर,रक्षा बंधन की हार्दिक बधाई व शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  8. ''सबसे बड़ा खुद से खुद का रिश्ता''

    रेवा जी, बहुत सुन्दर शब्द संजोये आपने
    रिश्तों के लिए.
    सुन्दर रचना के लिए हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  9. आपके ब्लॉग को ब्लॉग"दीप" में शामिल किया गया है ।
    जरुर पधारें ।

    ब्लॉग"दीप"

    ReplyDelete
  10. राखी की हार्दिक शुभकामनायें .........

    ReplyDelete
  11. रेवा जी, बहुत ही अच्छे विचार.जिन्दगी की उलझनों से मुक्ति स्वयं
    को समझने से ही सम्भव है.

    ReplyDelete
  12. बहुत ही खुबसूरत ख्यालो से रची रचना......

    ReplyDelete
  13. कल 22/08/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  14. बहुत भाव पूर्ण सुन्दर

    ReplyDelete
  15. ख़ूबसूरत खयालातों से तरबतर रचना

    ReplyDelete