Followers

Monday, August 26, 2013

"औरत"



कितने तप और पुण्य
के बाद मिलता है 
"औरत" का जन्म ,
तभी तो वो 
पैदा होने से लेकर 
मरने तक 
हर तरफ खुशियाँ 
बिखेरती है 
और हर तरह की जिम्मेदारी 
निभाती है ,
बचपन मे उसकी 
किल्कारियों से घर गूंजता है 
तो हर त्यौहार की रौनक भी 
होती है वो ,
शादी के बाद 
एक चार दिवारी को 
घर का दर्ज़ा देती है  ,
अपने त्याग और समझदारी की 
मिट्टी से सींच कर 
परिवार की मजबूत 
नींव तैयार करती है  ,
स्वं की इच्छा से पहले  
दूसरों की इच्छा का 
मान करती है ,
देवी देवताओं का आशीर्वाद 
है शायद उस पर 
तभी तो 
ये सब कर पाती है  ,
पर आज क्या हो रहा है 
उसके साथ ???
ये सब जानते है ,
बस एक दुआ, एक इल्तेज़ा है 
"औरत रूपी वरदान को 
अभिशाप मे न बदलो "

रेवा 


24 comments:

  1. औरत हर समय सम्माननीय हैं,बहुत ही सुन्दर प्रस्तुती।

    ReplyDelete
  2. काश कि कबूल हो ये दुआ.....
    सुन्दर अभिव्यक्ति है रेवा....

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  3. Nice words as well as feelings n photo also...ARUN

    ReplyDelete
  4. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए बुधवार 28/08/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in उमड़ते आते हैं शाम के साये........आज श्री कृष्ण जन्माष्टमी है...बुधवारीय हलचल ....पर लिंक की जाएगी. आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. औरत तो गंगा है - रुख बदल रही,सूखती दिख रही - पर …… अभिशप्त करनेवालों के लिए कहर बनेगी - तय है

    ReplyDelete

  6. नासमझ लोग कभी तो समझेंगे औरत की मह्त्व

    ReplyDelete
  7. यह काश कहकर खुद को दिलासा देती हैं तो कभी कहर बनकर त्रस्त करती हैं ...........

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर रचना , बहुत सुन्दर बात भी कही आपने

    ReplyDelete

  9. इस सुन्दर और अनमोल कृति पे
    मैं अपने जज़्बात रोक नहीं प् रहा हूँ ''रेवा'' जी
    और इस रचना के माध्यम से आपकी इस रचना को नमन करता हूँ :

    नारी तेरे रूप अनेक
    बेटी, माँ और बीवी, तू ही,
    लक्ष्मी तू और दुर्गा, तू ही ।
    संघर्षों की मूरत तू ही ।।

    फिर क्यूँ कहते सब हैं,
    कि औरत तेरी क्या हस्ती है ?

    सबको संभालती है तू ही,
    सबपे प्यार लुटाती तू ।
    हार मान जाये सब, पर-
    हार नहीं मानती है तू ।।
    जन्म से लेकर मृत्यु तक,
    कष्ट-अपमान भी सहती तू ।
    फिर भी जीवन से-
    निराश ना कभी होती तू ।।

    हे औरत ! तू देवी है ।
    ''अभी'' करता प्रणाम तुझे,
    कभी कोई गलती हुयी तो,-
    क्षमा करना मुझे-क्षमा करना मुझे ।।
    ..................अभिषेक कुमार झा ''अभी''.

    ReplyDelete
  10. औरत रूपी वरदान को अभिशाप में न बदलो...

    बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना,,,

    RECENT POST : पाँच( दोहे )

    ReplyDelete
  11. भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने....

    ReplyDelete


  12. रेवाजी ,

    औरत के सम्मानीय स्थान का आप ने ठीक से विवरण किया है।औरत के सम्मानीय स्थान का आप ने ठीक से विवरण किया है।
    Vinnie

    ReplyDelete
  13. सहमत हूँ तुम्हारी बात से ..कुदरत के वरदान को आज सबने मिल कर शापित कर दिया है ...बहुत दुःख होता है आज के हालात देख कर

    ReplyDelete
  14. अंतस को छूते शब्द...

    ReplyDelete
  15. बहुत अच्छी तरह प्रतिपादित किया है - काश ये लोग समझ सकें !

    ReplyDelete
  16. काश ये समाज कुछ समझ पाता ... मन को छूते भाव ...

    ReplyDelete
  17. अतुल्य प्रस्तुति ।

    ReplyDelete