Followers

Thursday, October 17, 2013

इम्तेहान



सिर्फ एक दिन के लिए
तुम आये
और तुमने महका दिया
मेरा तन मन 
हमारा घर आंगन ,
अब जबकि तुम पास 
नहीं हो 
तो तुम्हारी खुशबू 
तुम्हारा वजूद 
हर तरफ महसूस
हो रहा है ,
ये हमारे साथ
हमारे प्यार और भरोसे
का इम्तेहान है ,
ये भी निकल जायेगा
और फिर हमारी
प्यार भरी बगिया
दुबारा मुस्कुरा उठेगी।

रेवा 

21 comments:

  1. बहुत ही बढ़िया


    सादर

    ReplyDelete
  2. वाह, खूबसूरत

    ReplyDelete
  3. ये हमारे साथ
    हमारे प्यार और भरोसे
    का इम्तेहान है
    दुआ करुँगी कि अव्वल आओ
    समय का कोई पल स्थाई नहीं होता

    ReplyDelete
  4. बहुत ही खुबसूरत अभिव्यक्ति |
    latest post महिषासुर बध (भाग २ )

    ReplyDelete
  5. वाह, खूबसूरत
    ये हमारे साथ
    हमारे प्यार और भरोसे
    का इम्तेहान है

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शुक्रवार (18-10-2013) "मैं तो यूँ ही बुनता हूँ (चर्चा मंचःअंक-1402) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete

  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आप की इस प्रविष्टि की चर्चा शनिवार 19/10/2013 को प्यार और वक्त...( हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल : 028 )
    - पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर ....

    ReplyDelete
  8. .बेहतरीन अंदाज़.....

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर...
    दिल की बात दिल तक....
    :-)

    ReplyDelete
  10. खुबसूरत रचना |

    मेरी नई रचना:- "झारखण्ड की सैर"

    ReplyDelete
  11. najuk se bhaav liye sunder rachna

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  12. जिंदगी मे अच्छे पल एक बार ही आते हैं...हम सहेज लेते हैं वो पल...उम्र भर के लिए

    ReplyDelete
  13. मुसाफिर लौट के जरूर आते हैं ... फिर खिल जाती बगिया प्रेम की ...

    ReplyDelete

  14. हमारे प्यार और भरोसे
    का इम्तेहान है ,
    ये भी निकल जायेगा
    और फिर हमारी
    प्यार भरी बगिया
    दुबारा मुस्कुरा उठेगी --------

    वाकई प्रेम कई कई बार परीक्षा लेता है
    सहजता से कही गयी प्रेम की गहरी बात

    बहुत सुंदर
    सादर

    ReplyDelete