Followers

Sunday, November 17, 2013

सालों की मेहनत



मेरे सालों की
मेहनत रंग लायी 
मेरे प्यार और 
समर्पण ने 
अब तुम्हे भी 
प्यार करना 
सिखा ही दिया

अब मेरी मौज़ को
किनारा  ,
मेरे आँसुओं को
मंज़िल मिल गयी ,

मन तृप्त और संतुष्ट
हो गया ,
आखिर मेरे कान्हा ने
मेरी पुकार
मेरी गुहार सुन ली।

"जब लगा जीवन में
सबकुछ गयी हार ,
तो तूने लिया सम्भाल
भर दिया प्यार से मेरा संसार
कर दिया मुझे मालामाल "


रेवा 

4 comments: