Followers

Monday, December 2, 2013

सृजन से दूर



इन दिनों काफी मसरूफ रही
ज्यादा कुछ तो नहीं हुआ ,
पर मैं सृजन कि दुनिया
से दूर हो गयी ,
ऐसा लगा मानो
अपनी रूह से जुदा हो गयी ,
बिना अपने एहसासों को
व्यक्त किये
जीना कितना दुश्वार है
ये पता चला ,
लगा जैसे
बहते पानी को
रोक दिया है किसी ने ,
आज मैं तहे दिल से
उस लम्हे का शुक्रिया
करना चाहती हूँ
जिस लम्हे मैंने
अपने एहसासों को
व्यक्त करना शुरू किया
और आप सब का भी
आपने मेरा  भरपूर साथ दिया।

"कविता जगत को कोटि कोटि धन्यवाद "


 रेवा


19 comments:

  1. Shai kaha Reva aapne srajn se dur rhana dusvarrr hota hai

    ReplyDelete
  2. बिना अभिव्यक्ति ...पानी बिन मछली ...
    नई पोस्ट वो दूल्हा....

    ReplyDelete
  3. इसलिए अब दूर न जाना कभी :-)
    रोटियां सेंकते ...दाल छौंकते लिखी जाती हैं सबसे सुन्दर प्रेम कविताएँ.....

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  4. very well expressed,nice to see u back Rewa.. keep it up..love..

    ReplyDelete
  5. बढ़िया प्रस्तुति-
    आभार आदरणीया-

    ReplyDelete
  6. May I ask you what is the reason to go far off from writing new poems?
    Vinnie

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर उत्कृष्ट रचना ....!
    ==================
    नई पोस्ट-: चुनाव आया...

    ReplyDelete
  8. Saty Baat Kahi Aapne Bahin.
    Likhna Ek Nasha Ki Tarah Hai.
    2 Din Agar Kuchh Na Likho To Man Vyakul Hone Lagta Hai.

    Bahut Khoob Man Me Umare Sailab Ko Bayan Kiya Aapne.

    ReplyDelete
  9. true
    घायल की गति घायल जाने ! सखि शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज मंगलवार (03-12-2013) की 1450वीं में मंगलवारीय चर्चा --१४५० -घर की इज्जत बेंच,किसी के घर का पानी भरते हैं में "मयंक का कोना" पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  11. खुबसूरत अभिवयक्ति....

    ReplyDelete
  12. sachhi baat ji aap gayee hi kyun ...main bhi dhundh rahi thi aapko :))

    ReplyDelete
  13. यह दुनिया मन सी होती है

    ReplyDelete
  14. व्यस्तता भी रोक नहीं पाती मुझे इसलिए
    पल चुरा चुरा भाग आती हूँ यहाँ
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  15. खुबसूरत अभिवयक्ति
    बड़े दिनों की अधीर प्रतीक्षा के बाद आज आपका आगमन हुआ है

    ReplyDelete
  16. बिलकुल यह दुनिया अपने मन की है जहां अपने मन की कहने वाले भी है और आपके मन की सुनने वाले भी है इसलिए फिर कभी दूर न जायेगा यहाँ से ...:))

    ReplyDelete