Followers

Tuesday, June 2, 2020

टैग



चुप खड़े रह कर जब सिर्फ हाँ में 
सर हिलाया तो सबको खूब 
पसंद आया 
दौड़ दौड़ कर सारे घर का काम 
निबटाया तो सबको खूब 
पसंद आया 
सज धज कर हर अनुष्ठान में 
सम्मिलित हुई तो सबको 
बहुत पसंद आया 
हर तरफ से अपना मन मार कर जब तक 
जिंदगी जीती रही औरों के लिए 
सबको खूब पसंद आया 
"अच्छी बहू" का टैग भी लगाया

आधी से ज्यादा जिंदगी बिता कर 
जब ख़ुद के लिए जीने की चाह जगी 
तो किसी को अच्छा नहीं लगा 

जब चुप ने शब्दों का साथ देना शुरू 
किया, खुद के लिए बोलना शुरू किया 
तो किसी को अच्छा न लगा 

जहां मन ने कहा हाँ वहां जाना 
जहां मन ने कहा न वहां नहीं जाना 
नहीं गई
तो किसी को अच्छा न लगा

जब औरत मन की करने लगे 
ख़ुद के लिए जीने लगे वो बोलने लगे 
अरे नहीं (जवाब ) देने लगे 
तो वो अच्छी रह नहीं जाती 

और तब उसे अच्छाई के 
सिंहासन से 
उतार कर एक और टैग से 
नवाज़ा जाता है 
आज के जमाने की "बिगड़ी बहू"

4 comments:

  1. नमस्ते,

    आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में गुरुवार 04 जून 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. अच्छा विश्लेषण।
    सार्थक रचना।

    ReplyDelete