Followers

Saturday, September 1, 2012

Dont know why ?

My missing is at par
when I dont find you with me ,
I know you are always
there for me ,
but dont know why ?

I promised myself
I will not cry,
when I miss you a lot
but  dont know why ?

when I want u to hold me
tight in your arms
and feel you,
I cant help crying
dont know why ?

I know in this life
I can only miss and dream about you ,
instead of all my love for you
dont know why ?

I know you are the most precious
possesion of my heart,
you have filled the emptiness of my life
still I cant be with you , hold you, love you
dont know why ?

rewa


मैं जानती हूँ हम यहाँ हिन्दी मे लिखते हैं
पर इस बार कुछ इंग्लिश मे लिखने का मन हो गया
अन्यथा न लें /


18 comments:

  1. a lovely and adorable poetry...
    Nowadays, every day there r new experiments.

    ReplyDelete
  2. Written with full of Emotions Erupted from Deep of the Heart ........ Wonderful ... Like it too ...... Keep Writing ... Language just a medium of expression .... whatever U feel .. U should write ...... Keep it Up

    ReplyDelete

  3. there are so many unanswered questions in love.....dont try to find it,just listen to ur heart.
    well expressed poem rewa.....
    love

    anu

    ReplyDelete
  4. मेरी कुशल दोस्त..
    आपकी हिंदी कविताओं के जादू के बाद..अब इंग्लिश में लिखना..सुखद लगा..भाव पूर्ण लेखन है आपका..हिंदी जैसा ही प्रभावी..
    गुथ्थम गुथ्था होते मन को मथते सवाल..नंगे दहकते अंगारों भरी राह..चाहे जितनी मुश्किल हो..प्रेम नितांत सुखद अनुभव है दोस्त..
    पूरी कविता क़ी उलझाने आखिरी दो स्टेंजा में सहज नदी क़ी तरह बयान हुआ है..वही.. precious possession of my heart..filled the emptiness of life..but the trauma and predicament of not being with the most desired and loved person.. the fact pains at heart....

    still..to be united and getting the person does not necessarily mean sharing the same roof...व्यक्ति देह से ज्यादा एहसास से याद आते और..संजोये जाते हैं..वर्षों के साहचर्य के बाद भी चित्त से अबोला रिश्ता भी होता है.. और..आपने तो अपनी रचना में उसे अमर कर सदा सदा के लिए पा लिया है..
    बधाई मेरी मित्र..पुनः..ऐसे ही स्नेह क़ी कामनाओं सहित..

    ReplyDelete
    Replies
    1. Rajhans ji bahut bahut shukriya....

      Delete
  5. आपके ब्लॉग पर लगा हमारीवाणी क्लिक कोड ठीक नहीं है, इसके कारण हमारीवाणी लोगो पर क्लिक करने से आपकी पोस्ट हमारीवाणी पर प्रकाशित नहीं हो पाएगी. कृपया हमारीवाणी में लोगिन करके सही कोड प्राप्त करें और इस कोड की जगह लगा लें. यहाँ यह ध्यान रखा जाना आवश्यक है कि हमारीवाणी पर हर एक ब्लॉग के लिए अलग क्लिक कोड होता है.

    क्लिक कोड पर अधिक जानकारी के लिए निम्नलिखित लिंक पर क्लिक करें.
    http://www.hamarivani.com/news_details.php?news=41

    टीम हमारीवाणी

    ReplyDelete
    Replies
    1. shukriya ...is jankari kay liye....main pareshan thi ki kyu hamarivani par meri kavita nahi post ho rahi...

      Delete
  6. Aap sabka bahut bahut shukriya

    ReplyDelete