Followers

Friday, September 7, 2012

बेचारा दिल

बेचारा दिल 
कभी जलता है , सुलगता है 
कभी ठंडा भी हो जाता है ,

कभी तीर आर पार हो जाता है 
कभी छु कर निकल जाता है ,

कभी बच्चा बन जाता है 
फिर एक ही पल मे जवान भी ,

कभी किसी पर आता है 
कभी किसी पर ,

कभी दिल मानता नहीं 
कभी कुछ जनता नहीं ,

कभी दिल भर आता है 
कभी तर जाता है ,

कभी प्यासा है 
तो कभी तृप्त हो जाता है ,

कभी टूट कर बिखर जाता है 
कभी जुड़ जाता है ,

अरे हाँ आजकल तो ये गार्डेन गार्डेन भी हो जाता है ,

कितने सारे नाम मिले दिल को 
करे क्या बेचारा ,"दिल तो आखिर दिल है" !

रेवा 



17 comments:

  1. अरे हाँ आजकल तो ये गार्डेन गार्डेन भी हो जाता है ,
    और हाँ ,हमेशा गार्डेन गार्डेन ही रहने देना ,जीना आसान हो जाता है :))
    TUM BAHUT PYAARI HO :)

    ReplyDelete
  2. Hmmm...pata nahee dil kya cheez hai!

    ReplyDelete
  3. दिल तो बच्चा है जी :)))

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर दीदी

    ReplyDelete
  5. ठीक कहा ... दिल तो आखिर दिल ही है बेचारा ... क्या करे ...

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर, बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति है.

    ReplyDelete
  7. अरे????????????

    इत्ता सब लिखा और ये तो लिखा नहीं कि धड़कता है दिल !!!!
    :)

    गाता रहे...तेरा दिल...
    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. hahahahahaha....sahi kaha apne di....chalo wo kami apne puri kar di....

      Delete
  8. aap sabka bahut bahut shukriya......

    ReplyDelete
  9. बहुत सटीक और सुन्दर विश्लेषण ...दिल तो आखिर दिल है ......आभार

    ReplyDelete