Followers

Sunday, December 2, 2012

तुम ऐसे क्यों हो ?

तुम ऐसे क्यों हो ?
मुझे जिस रिश्ते की जरूरत होती है
तुम वैसे ही कैसे बन जाते हो ?
कभी दोस्त कभी हमसफ़र
कभी प्रेमी ,कभी बचपन का साथी
कैसे निभा लेते हो इतने सारे किरदार ?
क्यों सुन और समझ लेते हो मेरी हर बात
कितना झगड़ती हूँ ,कभी बेमतलब गुस्सा
हो जाती हूँ ,
पर तुम्हारे माथे पर एक शिकन तक नहीं आती
हमेशा मेरी बातें सुन कर हँसते रहते हो ,
कभी सोचती हूँ क्या रिश्ता है मेरा तुम्हारा ?
किस नाम से पुकारू तुम्हे ?
पर नहीं ,शायद हमारे रिश्ते को नाम
देना बेमानी , बेमतलब है ,
ये ऐसा अटूट रिश्ता है
जो किसी नाम ,किसी बंधन
का मोहताज नहीं
ये निर्मल जल जैसा है ,
जो बस बहता रहता है
हमारे एहसासों की नाव लिए ,
और कहता है
"नाव कागज़ की सही
पर डूबेगी नहीं "/



रेवा


15 comments:

  1. Aisa koyi qismatwalon ko hee milta hai!

    ReplyDelete
  2. ये ऐसा अटूट रिश्ता है

    जो किसी नाम ,किसी बंधनका मोहताज नहीं

    ये निर्मल जल जैसा है , जो बस बहता रहता है

    हमारे एहसासों की नाव लिए ....

    किसी की नज़र ना लग जाए .......... सम्भाल कर रखना !!

    ReplyDelete
  3. रेवा जी...
    दिल से निकले भावों का बहुत ही प्यारा चित्रण किया आपने !
    सच में..
    जो रिश्ते दिल से जुड़े होते हैं वो नामों के मोहताज़ नहीं होते !!

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
    Replies
    1. This comment has been removed by the author.

      Delete
    2. APNE COMMENTS KYU DELETE KI SAMAJH NAHI AYA

      Delete
  5. तुम ऐसे क्यो हो?
    इस प्रश्न का कोई जवाब नही है

    ReplyDelete
  6. kash aisa khubsurat kirdaar har ke jeevan me ho:)

    ReplyDelete
  7. कितनी परितृप्ति देनेवाली कल्पना है!

    ReplyDelete
  8. aap sabka bahut bahut shukriya

    ReplyDelete