Followers

Wednesday, December 26, 2012

प्यार के गवाह

वैसे तो मैं
हर रात ही गाने सुनकर
सोती  हूँ ,
पर जाने कल क्या हुआ ?
तेरी यादों ने
इस कदर दस्तक दी की
नींद से कोसो दूर मैं
बस हर गाने की
किरदार को निभाने लगी,
और उनमे
तेरी कमी महसूस
करने लगी ,
इतनी ज्यादा की
वो कमी आँखों से
बहने लगी ,
न जाने क्यों ?
पर कल तेरी यादों ने
खूब रुलाया ,
पर ये आंसू
बहुत सुकून भी  दे
रहे थे ,
क्युकी ये हमारे
प्यार के गवाह
जो थे /


रेवा 

12 comments:

  1. हृदयस्पर्शी भावपूर्ण प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  2. कोई मुस्कराहट भी तो गवाह होगी तुम्हारे प्यार की...कोई खिलखिलाहट भी तो बांटी होगी तुमने????
    उसे याद करो...
    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  3. छोटी , प्यार पास न हो तो ऐसा ही होता है ...........

    शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  4. वाह प्यार हो तो ऐसा...बहुत खूब

    ReplyDelete
  5. रेवा जी..गहन प्रेम की गहन अभिव्यक्ति ।
    एक बेहद सशक्त रचना...

    ReplyDelete
  6. भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने.....

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  8. Wah! Naya saal bahut mubarak sabit ho!

    ReplyDelete
    Replies
    1. apko bhi naya saal bahut bahut mubarak ho

      Delete
  9. aap sabka bahut bahut shukriya

    ReplyDelete
  10. सुंदर शब्दों में जज्बातों को आपने पिरोया है।
    आभार

    ReplyDelete