Followers

Thursday, June 6, 2013

एक्सपायरी डेट




मुझे लगा था
ताउम्र निभा लुँगी ये रिश्ता ,
जैसे हर बात तुमसे
साँझा किया है आज तक 
आगे भी करुँगी 
पर शायद नहीं ,
कितने दिन चलता तुमसे 
ये बातों का सिलसिला  ?????
कभी तो ख़त्म होना था न 
मैं ही भूल गयी थी की 
हर चीज़ की उम्र होती है 
उसके बाद वो काम नहीं करती ,
जैसे हर चीज़ की
एक्सपायरी डेट होती है 
शायद आजकल रिश्ते भी 
एक्सपायरी डेट के साथ बनते हैं। 

रेवा 





6 comments:

  1. वाह रिश्तों की नयी परिभाषा गढ़ दी है आपने
    वाकई अब रिश्ते समय के साथ ख़तम हो जाते हैं
    भावुक अनुभूति
    सादर

    आग्रह है
    गुलमोहर------



    ReplyDelete
  2. रिश्तों की नई परिभाषा अब समझनी होगी

    ReplyDelete
  3. sach me rishte bhi expiry date ke saath janamne lage :)

    ReplyDelete
  4. bhale date expire ho jaaye rishte ki khushbu bani rehti hai jaise phool ke jaane ke baad bhi bani rehti hai........ rishtey phool ki tarah hote hain...

    ReplyDelete
  5. काश सच में ऐसा हो पाता .........

    ReplyDelete
  6. काश रिश्तों की एक्सपायरी डेट का पता होता तो व्यक्ति उसके टूटने पर इतना दुखी नहीं होता...बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete