Followers

Tuesday, July 23, 2013

बेगानी आंखें

आज तुमसे बात कर के
दिल थम गया
उस लम्हे मे
लगा साँसें रुक गयी हो ,
और तब
ये आँखें भी अजीब हो जाती हैं
लगता ही नहीं की मेरी आँखें हैं
ये तुम्हारे प्यार से सरोबार हो कर
बरसने लगती हैं ,
समझ ही नहीं आता की
इन्हे क्या हो जाता है ?
इतनी प्यार भरी बातें
ना किया करो तुम ,
इन आँखों को और मुझे
बेगाना ना किया करो तुम /

रेवा





16 comments:

  1. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना..

    ReplyDelete
  2. बहुत ही ख़ूबसूरत जज़्बात

    ReplyDelete
  3. pyare prem se bhari abhivyakti ... sundar!

    ReplyDelete
  4. जब
    दिल ही अपना नहीं रहा
    तो
    आँखों के पराये होने का
    क्या गम .....
    एक अच्छी गुजारिश

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर भाव लिए हुए रचना है ये .......

    ReplyDelete
  6. सुन्दर शब्द चयन और भाव |
    आशा

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर. सुन्दर भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रेमभाव लिए अभिव्यक्ति !
    latest postअनुभूति : वर्षा ऋतु
    latest दिल के टुकड़े

    ReplyDelete
  9. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  10. बहुत ही खुबसूरत और प्यारी रचना....

    ReplyDelete
  11. प्यार की पराकाष्ठा.सुन्दर-सहज-सहज ग्राह्य. साधुवाद.

    ReplyDelete