Followers

Tuesday, July 30, 2013

गृहणी

गृहणी को किस मिट्टी से
गढते हैं भगवान ?
उसका अपना कुछ भी क्यों नहीं होता ?
न उसकी इच्छा, न उसका मन
जब जिसका जैसे मन होता है
वो उस के साथ वैसा ही बर्ताव करता है ,
अगर पति का मन अच्छा नहीं
ऑफिस मे कुछ हुआ या फिर
और कोई बात हो तो  ,
झेलना पत्नी को है
उसकी कडवी बातें और ख़राब मूड दोनों ,
अगर बच्चों का मन अच्छा नहीं तो
झेलना माँ को है ,
अगर सास ससुर को कुछ नागवार गुजरा तो
झेलना बहू को है ,
इन सब मे उसका अपना मन
अपनी इच्छा कुछ मायने रखती है क्या ?
बस खुद को एक अच्छी पत्नी, माँ और बहु
साबित करती रहे ज़िन्दगी भर,
और खुद को भूल ही जाये
तभी ये जीवन चल सकता है सुख शांति से  ,
सदियाँ गुजर गयी
इक्कीसवी सदी के हैं हम लोग
पर एक गृहणी अभी भी वहीँ की वहीँ ,
गृहणी को किस मिट्टी से
गढ़ते हैं भगवान ?????

रेवा



23 comments:

  1. shsrir mitti ka
    lekin
    dil-man phaulaad ka dete hain Brahamaa

    ReplyDelete
  2. bahut sundar.......... har aurat ke dard ko aapne prastut kiya hai........

    ReplyDelete
  3. sundar prastuti ..naari jaati ke man ke bhaav kabhi mere blog par bhi padharein .aur pasand aane par join karein meri nai rachna
    Os ki boond: मनी प्लांट ...

    ReplyDelete
  4. वाह . बहुत उम्दा,

    ReplyDelete
  5. वाह बहुत खूब लिखा | लाजवाब

    ReplyDelete
  6. बिल्कुल सटीक अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  7. बहुत उम्दा अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  8. kitana theek likha?Yeh sab to hamaare prti din ke anuhav hai.
    Vinnie

    ReplyDelete
  9. उम्दा है आदरेया-

    ReplyDelete
  10. कुछ खोकर सब पा लेते है ,
    सब पाकर कुछ खो देते है।
    क्या खोना है क्या पाना है ,
    नारी ने ही सच जाना है ॥

    बहुत ही अच्छी कविता बधाई

    ReplyDelete
  11. बहुत ही बढ़िया


    सादर

    ReplyDelete
  12. ek sachhai...mann ko chhu gayi...bahut khoob Rewa.

    ReplyDelete
  13. प्रश्न अच्छा है ...
    सुख शांति से गृहस्थी तभी चलती है जब गृहिणी बंधी बंधाई लकीर पर चले , मगर कुछ विरोधों के बावजूद आज गृहिणी को उसके स्वतंत्र व्यक्तित्व के साथ स्वीकारा जाने लगा है , उदहारण आप -हम हैं ना :)

    ReplyDelete
  14. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  15. स्नेह और सब्र की मिट्टी से गढ़ी जाती है औरत...
    मगर सहन करना उसकी नियती न बनायी जाए...

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  16. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन होरी को हीरो बनाने वाले रचनाकार को ब्लॉग बुलेटिन का नमन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  17. संयम, दम और शम यही गढते हैं गृहिणि को

    ReplyDelete
  18. नारी मन को शब्दों की धार मिल गई ..सोच के साथ ...बहुत खूब

    ReplyDelete
  19. यह तो ईश्वर को नहीं पता , लेकिन वह हर एक में आत्मबल जरुर भर कर भेजता है

    ReplyDelete
  20. बहुत सार्थक अभिव्यक्ति

    ReplyDelete