Followers

Thursday, May 1, 2014

मेरे सवाल ?


शाम को घोंसलों कि तरफ़ उड़ान
भरने वाले पछियों के जीवन मे
नयी सुबह की चहचाहट
जरूर आती है ,
पर घड़ी की टिकटिक
के साथ ,
हर काम करती एक स्त्री के
जीवन में सुबह क्यों नहीं आती ?
घर के हर सामान को
प्यार से सजाने वाली कि
ज़िन्दगी ,
क्यूँ प्यार से खाली रहती है ?
उसके मन के भावों को
क्यों उसके अपने
नहीं पढ़ पाते ?
क्यों जब वो अपने बारे
में सोचती है तो
उसे ऐसा लगता है की
वो मात्र एक यन्त्र है ?
जिसे रुकना तो दुर
बिगड़ने का भि हक़ नहीं ?
और "दिल तो यन्त्र मे
होता ही नहीं" !
जब वो सबको खुश रखने की
भरपूर कोशिश करती है तो
क्यों उसे बोला जाता है की ,
"खुद को खुद से खुश रखना सीखो "
फिर घर परिवार पति बच्चों
का क्या मतलब ?
जो उसके सबसे ज्यादा
अपने होते हैं।

"क्या आप दे सकते हैं मेरे इन सवालों के जवाब "?

रेवा 


19 comments:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (02.05.2014) को "क्यों गाती हो कोयल " (चर्चा अंक-1600)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, वहाँ पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    ReplyDelete
  2. रेवा जी सच का दर्पण दिखा दिया है आपने .

    ReplyDelete
  3. इन प्रश्नों के उत्तर मिल जाएँ तो दर्द ही नहीं रहेगा ... संवेदनशील प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. आपकी लिखी रचना शनिवार 03 मई 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. किससे कह रहीं हैं उत्तर देनो को ,अपने सुख-सुविधा के आगे जो कुछ सोचना नहीं चाहता ?

    ReplyDelete
  6. बहुत सार्थक कविता ... स्त्री सबसे बड़ी मजदूर होती है ..

    ReplyDelete
  7. shaayad koi de paaye .... kyun ki main to khud varsho se anuttarit hoon ....
    God Bless you

    ReplyDelete
  8. कुछ प्रश्नों के उत्तर देना कठिन होते हैं। बहुत सुंदर लिखा है रेवा जी

    ReplyDelete
  9. aap sabka bahut bahut shukriya, par sawal wahin ka wahin

    ReplyDelete
  10. सार्थक बेहतरीन रचना

    ReplyDelete