Followers

Wednesday, June 13, 2018

तुम में तुम्हें



तुम कभी नहीं
जान सकते
तुम में तुम्हें
कितना ढूंढती हूँ मैं
तुम तो जैसे
खो से गए हो
खुद में

रोज़ तुम्हें
समझाते जीवन के
मायने बताते
तुम्हें तुम से वापस
मिलाने की कोशिश में
मैं, मैं रह नहीं गयी
ये सारी कोशिशें .......
जीवन जीने की जंग
सब अपनी जगह सही है

पर कभी कभी मेरा
मैं तुम्हारे तुम से
मिलना चाहता है
और करना चाहता है
अनगिनत बातें
बातें प्यार की
बातें मेरी और तुम्हारी
आँखों में आँखें डाले
देखना चाहता है
सिर्फ तुम्हें
बांहों में बांहें डाले
महसूस करना चाहता है
सिर्फ तुम्हें

मैं नहीं चाहती यूँ ही
दुनिया से रुखसत होना
जीना चाहती हूँ बार बार
और मरना भी चाहती हूँ
बार बारे
पर तेरे साथ तेरी बांहों में !!!

रेवा



3 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 14.06.18 को चर्चा पंच पर चर्चा - 3001 में दिया जाएगा

    हार्दिक धन्यवाद

    ReplyDelete