Followers

Friday, July 16, 2010

अच्छा लगता है मुझे

तेरे खयालों में जीना
तुझमे खो जाना
अच्छा लगता है मुझे ,

तेरी यादों मे रोना
तेरी बातो पे मुस्काना
अच्छा लगता है मुझे ,

तेरे खयालों से प्यार
तेरी बातो पे ऐतबार
अच्छा लगता है मुझे ,

चुप चाप बैठ
तुझे अपने पास महसूस करना
अच्छा लगता है मुझे,

बिन बरसात तेरे
प्यार मे भीग जाना
अच्छा लगता है मुझे ,

तेरे साथ जीना
पर बिन तेरे मर जाना
अच्छा लगता है मुझे l 



रेवा



14 comments:

  1. pradeepkumar
    gazab...didi.....bahut.hi hseen jajbaat..
    बिन बरसात तेरे
    प्यार मे भीग जाना
    अच्छा लगता है मुझे

    तेरे साथ जीना
    पर बिन तेरे मर जाना
    अच्छा लगता है मुझे


    रेवा di.....great

    ReplyDelete
  2. kishor kumar
    बिन बरसात तेरे
    प्यार मे भीग जाना
    अच्छा लगता है मुझे

    तेरे साथ जीना
    पर बिन तेरे मर जाना
    अच्छा लगता है मुझे


    रेवा


    bahut shubh bhavanaa ko likha hain aapne

    dil kii baat ........sundar reva ......!

    ReplyDelete
  3. anil
    ek bahut hee madhur see kavita dhadakano ko chootee huyee

    ReplyDelete
  4. Rakesh Jajvalya
    चुप चाप बैठ
    तुझे अपने पास महसूस करना
    अच्छा लगता है मुझे


    sachmuch achchha laga.

    ReplyDelete
  5. ALok Khare (GV)
    चुप चाप बैठ
    तुझे अपने पास महसूस करना
    अच्छा लगता है मुझे

    ek shaandar ehsaas he ye
    "achha lagta he"

    ReplyDelete
  6. vasundhara
    चुप चाप बैठ
    तुझे अपने पास महसूस करना
    अच्छा लगता है मुझे ................beautiful poem...beautiful feelings

    ReplyDelete
  7. AANCHAL-AMRITA
    mehkte -jajvat, hirday ki bat
    चुप चाप बैठ
    तुझे अपने पास महसूस करना
    अच्छा लगता है मुझे

    ReplyDelete
  8. shailesh
    बिन बरसात तेरे
    प्यार मे भीग जाना
    अच्छा लगता है मुझे

    acche shabd hain .. komal ehsaas ..

    bahut acchha

    ReplyDelete
  9. vineet***
    sahaj aur sundar kavita......
    ise padhna
    achchha lagta hai mujhe bhi

    ReplyDelete
  10. liFe dEpEnds 0n
    dil ko chhuti huyee khubsurat rachna
    ..............
    ...........
    अच्छा लगता है मुझे ...........kya baat he

    ReplyDelete
  11. !!**KK**!!
    pyare alfaaz hain....

    ReplyDelete
  12. बहुत पसन्द आया
    हमें भी पढवाने के लिये हार्दिक धन्यवाद
    बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ..

    ReplyDelete
  13. बिन बरसात तेरे
    प्यार मे भीग जाना
    अच्छा लगता है मुझे ..are waha kya bat kahi apne. sachi me bahut hi uchi baat bhai kya kahne apke.ekdam dil ko chu jati ha apki rachna...:)

    ReplyDelete