Followers

Thursday, May 16, 2013

एक पागल लड़की

सच मे वह पागल थी
प्यार के लिए पागल ,
सबसे अलग सांवली सी थी
साधारण रंग रूप
साधारण सपने ,
सबसे बड़े प्यार से मिलती
हर किसी को अपना बना लेती ,
कोई अगर प्यार के दो बोल
बोल दे तो बस
उसके सारे काम
ख़ुशी ख़ुशी कर देती थी ,
पर उस पगली को ये कहाँ पता था
कि उसे कभी प्यार हो जायेगा ,
पागल तो पहले ही थी
अब दीवानी भी हो गयी थी ,
दिलो जान से चाहा अपने प्यार को
बहुत भरोसा किया ,
पर टूट गया भरोसा
प्यार टूटता तो बात अलग थी ,
बिखर गयी
पर टूटी नहीं ,
जीना फिर शुरू किया
ज़िन्दगी तो आज भी जीती है वो
पर सच्चे प्यार को
आज भी तरसती है वो पगली ......


रेवा


11 comments:

  1. Bhavabhivyakti ati sundar hai.
    vinnie

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दार भावपूर्ण प्रस्तुति,आभार.

    ReplyDelete
  3. रुलाने का इरादा हो तो पहले से बता दिया करो .....

    ReplyDelete
  4. भाव प्रधान मर्म स्पर्शी रचना हेतु बधाई
    Sanjiv verma 'Salil'
    salil.sanjiv@gmail.com
    http://divyanarmada.blogspot.in



    ReplyDelete
  5. अनुपम भाव संयोजन .... मन को छूते भाव

    ReplyDelete
  6. pagal ladki ka pagal sa pyar.. bahut behtareen...

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर भावमयी रचना...

    ReplyDelete
  8. भाव पूर्ण रचना

    ReplyDelete
  9. जो पागल होते हैं वही तो प्यार करते है

    ReplyDelete
  10. मार्मिक और भावपूर्ण रचना
    मन को भेदती हुई
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    बधाई


    आग्रह है पढ़ें "बूंद-"
    http://jyoti-khare.blogspot.in


    ReplyDelete