Followers

Saturday, September 22, 2018

औरत


मैं पतंग नहीं
बनना चाहती
जिसकी डोर
किसी और के
हाथ में हो 

हवा का रुख 
जिधर हो 
उधर उसे
डोर से बंधे ही
उड़ना पड़ता हो 

कभी कभी इसी
प्रयास में गिर भी
जाती है अंधेरी
गुफ़ा में 

मैं चिड़िया बनना
चाहती हूँ
जो अपनी उड़ान
अपने हिसाब से
तय करे
और उड़ सके इस
उन्मुक्त आकाश में  ......

#रेवा
#औरत 



8 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (23-09-2018) को "चाहिए पूरा हिन्दुस्तान" (चर्चा अंक-3103) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  3. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete